IPL : चक्रवर्ती के पंजे ने दिल्ली को दबोचा, कोलकाता की उम्मीदें बढ़ीं

अबु धाबी। रहस्यमय स्पिनर वरुण चक्रवर्ती (20 रन पर पांच विकेट) की घातक गेंदबाजी से कोलकाता नाईट राइडर्स ने दिल्ली कैपिटल्स को शनिवार को आईपीएल मुकाबले में 59 रन के बड़े अंतर से हराकर अपनी छठी जीत हासिल की और अपनी उम्मीदों को मजबूत कर लिया।

कोलकाता ने सलामी बल्लेबाज नीतीश राणा (81) और सुनील नारायण (64) के शानदार अर्धशतकों तथा उनके बीच चौथे विकेट के लिए 56 गेंदों पर 115 रन की बेहतरीन साझेदारी की बदौलत 20 ओवर में चार विकेट पर 194 रन का मजबूत स्कोर बनाया और फिर चक्रवर्ती की इस आईपीएल की सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी से दिल्ली को नौ विकेट पर 135 रन पर रोक लिया।

दिल्ली को इस तरह लगातार दूसरी हार का सामना करना पड़ा जिससे उसका प्लेऑफ का इन्तजार बढ़ गया है। चक्रवर्ती को उनकी शानदार गेंदबाजी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया।

कोलकाता की 11 मैचों में यह छठी जीत है और वह 12 अंकों के साथ चौथे स्थान पर कायम है। कोलकाता के लिए यह जीत महत्वपूर्ण रही क्योंकि अब प्लेऑफ के लिए उसे बचे तीन मैचों में से दो मैच जीतने होंगे जबकि दिल्ली को प्लेऑफ के लिए एक जीत की जरूरत है।

कोलकाता की टीम अपने पिछले मैच में बेंगलुरु के खिलाफ 84 रन ही बना पायी थी लेकिन इस मुकाबले में उसने बल्ले और गेंद से शानदार वापसी की और मनोबल बढ़ाने वाली जीत हासिल की।

कोलकाता की टीम टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करने उतरी लेकिन उसकी शुरुआत खराब रही और उसने 42 रन तक तीन विकेट गंवा दिए। ऐसी नाजुक स्थिति में राणा और नारायण ने मोर्चा संभाला और लगातार बेहतरीन शॉट्स खेलते हुए टीम पर छाया दबाव हटा दिया। दिल्ली का कोई भी गेंदबाज इन बल्लेबाजों को परेशान नहीं कर सका।
नारायण संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन की शिकायत के चलते पिछले कुछ मैच नहीं खेल पाए थे। इस मैच में उन्हें टॉम बेंटन की जगह शामिल किया और नारायण ने इस मौके का पूरा फायदा उठाते हुए तेज तर्रार अर्धशतक बनाया। नारायण ने मात्र 32 गेंदों पर 64 रन में छह चौके और चार छक्के लगाए। नारायण को कैगिसो रबादा ने अजिंक्या रहाणे के हाथों कैच कराया। नारायण और राणा के बीच चौथे विकेट के लिए मात्र 54 गेंदों पर 115 रन की साझेदारी बनी।

नारायण के आउट होने के बाद राणा ने रन बनाना जारी रखा। कप्तान इयोन मोर्गन ने मैदान में उतरने के साथ ही शानदार शॉट खेले। राणा ने आखिरी ओवर में मार्कस स्टॉयनिस की तीसरी और चौथी गेंद पर लगातार चौके मारे लेकिन पांचवीं गेंद पर आउट हो गए। राणा ने 53 गेंदों पर 81 रन में 13 चौके और एक छक्का लगाया। मोर्गन आखिरी गेंद पर आउट हुए। मोर्गन ने नौ गेंदों पर 17 रन में दो चौके और एक छक्का लगाया।

कोलकाता की पारी की शुरुआत में शुभमन गिल नौ, राहुल त्रिपाठी 13 और दिनेश कार्तिक तीन रन बनाकर आउट हुए लेकिन इसके बाद मैदान में राणा और नारायण की जोड़ी छा गयी और कोलकाता मजबूत स्कोर पर पहुंच गया।

दिल्ली की तरफ से एनरिच नोर्त्जे ने 27 रन पर दो विकेट, रबादा ने 33 रन पर दो विकेट और स्टॉयनिस ने 41 रन पर दो विकेट लिए जबकि ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने चार ओवर में 45 रन लुटाये।

लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली की शुरुआत अच्छी नहीं रही। इस मैच में पृथ्वी शॉ की जगह शामिल किये गए अजिंक्या रहाणे इस मौके का फायदा नहीं उठा पाए और पैट कमिंस की पारी की पहली गेंद पर पगबाधा हो गए। पिछले दो मैचों में लगातार नाबाद शतक बनाने वाले शिखर धवन से दिल्ली को काफी उम्मीदें थीं लेकिन वह छह रन बनाकर कमिंस की गेंद पर बोल्ड हो गए।

कप्तान श्रेयस अय्यर ने विकेटकीपर ऋषभ पंत के साथ तीसरे विकेट के लिए 63 रन की साझेदारी की लेकिन इस साझेदारी के दौरान रन गति धीमी होती चली गयी। रहस्यमय स्पिनर वरुण चक्रवर्ती ने इसके बाद कहर बरपाया और पांच विकेट लेकर दिल्ली की कमर तोड़ दी। चक्रवर्ती ने अपने पहले तीन ओवर में पांच विकेट लेकर इस आईपीएल का सर्वश्रष्ठ प्रदर्शन कर डाला।

चक्रवर्ती ने पंत, शिमरॉन हेत्माएर, अय्यर, मार्कस स्टॉयनिस और अक्षर पटेल के विकेट लेकर कोलकाता के खेमे में उम्मीदों और ख़ुशी का संचार कर दिया। पंत ने 33 गेंदों पर 27 रन में दो चौके और एक छक्का लगाया जबकि अय्यर ने 38 गेंदों पर 47 रन में पांच चौके लगाए। हेतम्येर 10, स्टॉयनिस छह और पटेल नौ रन बनाकर आउट हुए।

दिल्ली के बल्लेबाजों ने लगातार दूसरे मैच में बल्लेबाजी में निराशाजनक प्रदर्शन किया। दिल्ली को अपने पिछले मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब से पांच विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। अश्विन 14 रन बनाकर नाबाद रहे। कमिंस ने कैगिसो रबादा को और लॉकी फर्ग्युसन ने तुषार देशपांडे को आउट किया।

चक्रवर्ती के पांच विकेट के अलावा कमिंस ने 17 रन पर तीन विकेट और फर्ग्युसन ने 30 रन पर एक विकेट लिया। दिल्ली इस हार के बाद दूसरे स्थान पर खिसक गई है।