IPL 2021 : तीसरे स्थान से सबसे आखिरी स्थान पर खिसकी सनराइज़र्स हैदराबाद

दुबई। सनराइज़र्स हैदराबाद ने 2020 सीज़न की तुलना में सबसे ज़्यादा गिरावट दर्ज की और वह तीसरे स्थान से सीधा सबसे निचले स्थान पर खिसक गए। उन्होंने 2021 के संस्करण को 14 मैचों में सिर्फ़ तीन जीत के साथ समाप्त किया।

सनराइज़र्स के लिए कुछ ठीक नहीं रहा। यहां तक ​​कि जब भारत में पहला चरण शुरू हुआ, तो उन्होंने अपनी पहली जीत दर्ज़ करने के लिए चार मैच लगा दिए। आईपीएल स्थगित होने से पहले वे तीन मैच और हार गए, और फिर दो और हार के साथ यूएई लेग की शुरुआत की। उनके पहले नौ मैचों में से केवल एक जीत का मतलब था कि उनका सीज़न वास्तव में पहले ही ख़त्म हो गया था।

डेविड वॉर्नर के लिए फ़ॉर्म बहुत दूर रही और यूएई के लेग में जॉनी बेयरस्टो की अनुपलब्धता का मतलब था कि उनके गेंदबाज़ों को फिर से भारी ज़िम्मेदारी उठानी पड़ी, लेकिन सनराइज़र्स के 150 रनों तक लगातार नहीं पहुंचने की असमर्थता ने उन्हें काफ़ी नुकसान पहुंचाया।

उन्होंने सीज़न की शुरुआत उन मैचों में लक्ष्य पीछा करने से की जो वे जीत सकते थे। यह पुराने कारणों से नहीं हुआ, एक अनुभवहीन और कमजोर मध्य क्रम। और जब उन्होंने पहले बल्लेबाज़ी की, तो पांच प्रयासों में केवल दो बार 135 रन बनाए और उनमें से केवल एक बार वह इस स्कोर को बचा सके।

गेंदबाज़ी में भी टी नटराजन के कोविड पॉज़िटिव पाए जाने ने उन्हें उनकी योजनाओं में सफल नहीं होने दिया। ग़ैर-स्विंग परिस्थितियों में संदीप शर्मा और भुवनेश्वर कुमार भी महंगे साबित हुए। राशिद ख़ान एक बार फिर उनके प्रमुख विकेट लेने वाले गेंदबाज़ थे और जेसन होल्डर ने भी अपनी गेंदबाज़ी से उन्हें यूएई लेग में प्रेरित किया, लेकिन अगर कोई टीम है जिसे बड़े बदलावों की दरक़ार है तो वह सनराइज़र्स ही है।

वॉर्नर, पिछले कुछ वर्षों में आईपीएल में लगातार रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों में से एक रहे हैं, लेकिन इस समय बुरी तरह से फ़ॉर्म से जूझने के बाद अंतिम 11 में भी जगह नहीं बना सके। न केवल उन्होंने अपनी कप्तानी खो दी, बल्कि यूएई लेग में 2 और 0 के स्कोर के बाद वह सनराइज़र्स की योजनाओं से पूरी तरह से बाहर हो गए।

लीग चरण के अंतिम मैच में स्टैंड से सनराइज़र्स का झंडा लहराते हुए देखे जाने से पहले, उन्हें कुछ मैचों के लिए टीम होटल में छोड़ दिया गया था। जिसका मतलब है कि वार्नर-सनराइजर्स का गठबंधन समाप्त हो सकता है।