मुंबई इंडियंस ने चेन्नई सुपरकिंग्स को आईपीएल से बाहर किया

मुंबई। प्लेऑफ की होड़ से बाहर हो चुके मुंबई इंडियंस ने अपने गेंदबाजों के घातक प्रदर्शन से चेन्नई सुपरकिंग्स को आईपीएल मुकाबले में गुरूवार को पांच विकेट से हराकर टूर्नामेंट से बाहर का दिया। मुंबई ने चेन्नई को 16 ओवर में मात्र 97 रन पर ढेर कर दिया और फिर 14.5 ओवर में पांच विकेट पर 103 रन बनाकर जीत अपने नाम की।

मुंबई की तरफ से डेनियल सैम्स ने 16 रन देकर तीन विकेट हासिल किए जबकि रायली मेरेडिथ और कुमार कार्तिकेय को दो-दो विकेट मिले।जसप्रीत बुमराह और रमनदीप सिंह के हिस्से में एक-एक विकेट आया। डेनियल सैम्स प्लेयर ऑफ द मैच रहे।

चेन्नई के लिए कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 33 गेंदों में चार चौकों और दो छक्कों की मदद से नाबाद 36 रन बनाए। ड्वेन ब्रावो ने 12 और शिवम दुबे तथा अम्बाती रायुडू ने 10-10 रन का योगदान दिया। पहले ओवर में दो विकेट गिरने के बाद चेन्नई की टीम मुकाबले में नहीं लौट सकी।

रोबिन उथप्पा दूसरे ओवर में तीसरे बल्लेबाज के रूप में पवेलियन लौटे। धोनी और ब्रावो के बीच सातवें विकेट के लिए 39 रन की साझेदारी हुई। धोनी 16 वें ओवर की आखिरी गेंद पर रन लेने के लिए दौड़ पड़े जबकि विकेटकीपर ईशान किशन ने सीधे थ्रो से मुकेश चौधरी को रन आउट कर दिया।

भले ही यह एक कम स्कोर वाला मैच था लेकिन रोमांच ऐसा जैसे किसी बड़े स्कोर वाले मैच में होता है। गेंद काफ़ी स्विंग कर रही थी। पहली पारी के ख़त्म होने के बाद ऐसा लगा कि यह मैच भी जल्दी ही ख़त्म हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ और चेन्नई के तेज़ गेंदबाज़ों ने कमाल की गेंदबाज़ी की। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज मुकेश चौधरी ने 23 रन देकर तीन विकेट लिए। सिमरजीत सिंह और मोईन अली को एक एक विकेट मिला।

मुम्बई के लिए तिलक वर्मा ने 32 गेंदों में चार चौकों के सहारे नाबाद 34 रन की मैच विजयी पारी खेली। टिम डेविड ने सात गेंदों में दो छक्कों के सहारे नाबाद 16 रन बनाये। कप्तान रोहित शर्मा और ऋतिक शौक़ीन ने 18-18 रन बनाए। डेविड ने मोईन अली पर विजयी छक्का मारा।

चेन्नई के कप्तान धोनी ने जीत का श्रेय मुम्बई की गेंदबाजी को दिया। धोनी ने मैच के बाद कहा कि मुझे लगा कि 130 से कम का कोई भी स्कोर इस पिच पर कम था। मैंने बस अपने गेंदबाज़ों से कहा कि आप मैच हारने और जीतने के बारे में मत सोचों और अपने तरीके से गेंदबाज़ी करो। ऐसा नहीं है कि हमारे पास कुछ शानदार तेज़ गेंदबाज़ों का बेंच स्ट्रेंथ था।

हालांकि युवा गेंदबाज़ों ने बढ़िया गेंदबाज़ी की। उन्हें अनुभव के साथ काफ़ी कुछ सीखने को मिल रहा है। बाक़ी बचे मैचों में अगर यह दोनों गेंदबाज़ बढ़िया प्रदर्शन करते हैं तो इस सीज़न के लिए यह हमारी सकारात्क पक्षों में से एक रहेगा। हम चाह रहे हैं कि टीम में जहां भी कमी है उसे पूरा किया जाए। आज मुंबई के गेंदबाज़ों ने बढ़िया गेंदबाज़ी की। हमारे कुछ बल्लेबाज़ ऐसी गेंदों पर आउट हुए जो थोड़ा सा निराशजनक था।