IPL 2022 : दिल्ली कैपिटल्स ने पंजाब किंग्स को 17 रनों से हराया

मुंबई। मिचेल मार्श (63) के शानदार अर्धशतक और शार्दुल ठाकुर (28 रन पर चार विकेट) की बेहतरीन गेंदबाजी से दिल्ली कैपिटल्स ने पंजाब किंग्स को आईपीएल मुकाबले में सोमवार को 17 रनों से हराकर प्लेऑफ में पहुंचने की अपनी उम्मीदों को कायम रखा।

दिल्ली ने 20 ओवर में सात विकेट पर 159 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाने के बाद पंजाब को 20 ओवर नौ विकेट पर 142 रनों पर रोक दिया। दिल्ली की 13 मैचों में यह सातवीं जीत है और उसके 14 अंक हो गए हैं जबकि पंजाब 13 मैचों में सातवीं हार के बाद 12 अंकों पर है और उसकी उम्मीद समाप्त हो चुकी है।

टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली की शुरुआत खराब रही और उसने लियाम लिविंग्स्टन की पारी की पहली गेंद पर अपने ओपनर डेविड वार्नर को गंवा दिया। लिविंग्स्टन ने बाद में दिल्ली के कप्तान ऋषभ पंत और रोवमैन पॉवेल को भी पवेलियन का रास्ता दिखाया। लिविंग्स्टन ने चार ओवर में 27 रन देकर तीन विकेट झटके। पंत सात और पॉवेल दो रन बनाकर आउट हुए।

मार्श ने एक छोर संभाल कर खेलते हुए 48 गेंदों पर चार चौकों और तीन छक्कों की मदद से 63 रन बनाये और पारी के 19वें ओवर में आउट हुए। ओपनर सरफराज खान ने 16 गेंदों में पांच चौकों और एक छक्के के सहारे 32 रन तथा ललित यादव ने 21 गेंदों में एक चौके और एक छक्के के सहारे 24 रन बनाये। अक्षर पटेल ने 20 गेंदों पर नाबाद 17 रन बनाए। पंजाब के लिए अर्शदीप सिंह ने 37 रन देकर तीन विकेट लिए।

लक्ष्य का पीछा करते हुए पंजाब की तरफ से जीतेन्द्र शर्मा ने 34 गेंदों पर सर्वाधिक 44 रन बनाये जबकि जॉनी बेयरस्टो ने 15 गेंदों में 28 रन का योगदान दिया। शिखर धवन ने 19 और राहुल चाहर ने नाबाद 25 रन बनाए।

दिल्ली की तरफ से शार्दुल ठाकुर के चार विकेटों के अलावा अक्षर पटेल और कुलदीप यादव ने दो-दो विकेट लिए। पंजाब ने 38 रन की अच्छी शुरुआत के बाद अपने विकेट लगातार गंवाए।

इस जीत के साथ दिल्ली अब 14 अकों तक पहुंच गई है और इनका नेट रन रेट भी अच्छा हो गया है। फिलहाल दिल्ली अंक तालिका में चौथे स्थान पर पहुंच गयी है । उनके पास अभी एक और मैच है। अगर वह जीत जाते हैं तो प्ले ऑफ़ में उनका टिकट लगभग तय हो जाएगा।

आज के मैच की बात करें तो दिल्ली की टीम ने एक छोटे स्कोर को बढ़िया तरह से डिफेंड किया। उनके गेंदबाज़ों ने समय-समय पर पंजाब को झटका दिया। पंजाब की शुरुआत ठीक-ठीक थी लेकिन उसके बाद उनका बल्लेबाज़ी क्रम ताश के पत्तों की तरह ढह गया।