ISL 2017 : मिकू, छेत्री की बदौलत बेंगलुरू ने केरल को हराया

ISL 2017 : Miku's brace helps Bengaluru FC beat Kerala Blasters to go to third place on the table
ISL 2017 : Miku’s brace helps Bengaluru FC beat Kerala Blasters to go to third place on the table

कोच्चि। मिकू द्वारा अंतिम मिनटों में किए गए दो और कप्तान सुनील छेत्री द्वारा पेनाल्टी पर किए गए एक गोल की मदद से बेंगलुरू एफसी ने रविवार को जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में खेले गए हीरो इंडियन सुपर लीग के चौथे सीजन के तीसरे साउदर्न डर्बी में मेजबान केरला ब्लास्टर्स को 3-1 से हरा दिया।

छेत्री ने 60वें मिनट में केरल के सबसे अनुभवी डिफेंडर और कप्तान संदेश झिंगन की गलती के कारण मिले पेनाल्टी पर गोल करते हुए बेंगलुरू को 1-0 से आगे कर दिया था और फिर 90वें मिनट में मिकू ने अपना पहला और टीम के लिए दूसरा गोल किया। मिकू यहीं नहीं रुके। उन्होंने खेल खत्म होने से दो मिनट पहले एक और गोल करते हुए बेंगलुरू को 3-0 से आगे कर दिया। केरल के लिए एकमात्र गोल करेज पेकुसन ने खेल खत्म होने से कुछ सेकेंड पहले दिया।

मिकू और छेत्री ने अपने शानदार प्रयासों के दम पर बेंगलुरू को आठ मैचों में पांचवीं जीत दिलाई। इस जीत ने बेंगलुरू को 10 टीमों की तालिका में तीसरें स्थान पर पहुंचा दिया है। उसके 15 हो गए हैं। अंकों के मामले में वह एफसी पुणे सिटी के बराबर है लेकिन गोल अंतर में वह पीछे है। मेजबान टीम की यह चौथे सीजन की दूसरी और घर में पहली हार है। वह आठवें स्थान पर बनी हुई है।

पहला हाफ गोलरहित बराबरी पर समाप्त हुआ। इस हाफ में कुछ रफ टैकल भी हुए। नतीजतन दो पीले कार्ड दिखाए गए। साथ ही ब्लास्टर्स के स्टार फारवर्ड इयान ह्यूम सिर पर खून के साथ मैदान से बाहर गए लेकिन थोड़े समय बाद वह वापसी करने में सफल रहे।

गोल करने का पहला और सबसे बड़ा मौका 27वें मिनट में आया जब मार्क सिफनोइस वॉली से गोल करने प्रयास में गेंद को ठीक से कनेक्ट नहीं कर सके और गेंद उनके हाथ से लगती हुई गलत दिशा में चली गई। सिफनोइस को यह बेहतरीन डियागोनल पास दाएं किनारे से वेस ब्राउन ने दिया था।

इसके जवाब में 35वें मिनट में कप्तान सुनील छेत्री ने बेंगलुरू के लिए एक शानदार मूव बनाया। छेत्री काफी दूरी से गेंद लेकर बॉक्स में पहुंचे और मौका बनाते हुए एक जोरदार किक गेंद पर लगाया। गेंद निशाने पर थी लेकिन केरल के गोलकीपर सुभाशीष रॉय ने पूरी मुस्तैदी से गेंद को दिशाहीन कर दिया।

इस पर बेंगलुरू को कार्नर मिला। एडु गार्सिया ने गेंद को सही जगह पहुंचाया और एरिक पार्टालू ने हेडर के जरिए गेंद को पोस्ट में डालने का प्रयास किया पर मेजबान गोलकीपर एक बार फिर सावधान थे। गार्सिया ने 43वें मिनट में भी एक प्रयास किया परंतु रॉय एक बार फिर सावधान दिखे।

पहला हाफ कम नाटकीय रहा लेकिन दूसरे हाफ की शुरुआत धमाकेदार रही। 48वें मिनट में बेंगलुरू के सुभाशीष बोस को पीला कार्ड दिखाया गया। 52वें मिनट में छेत्री ने केरल के गोलपोस्ट पर हेडर के जरिए एक जोरदार हमला किया लेकिन सुभाशीष रॉय ने उसे बचा लिया। छेत्री ने यह हेडर हरमनजोत खाबरा को शानदार क्रास पर लिया था।

बेंगलुरू के कप्तान ने 59वें मिनट में भी एक जोरदार हमला किया। बाएं किनारे से गेंद लेकर वह बॉक्स के पास पहुंचे और वहां मौजूद एडु गार्सिया को एक शानदार पास दिया। एडु ने गेंद पर प्रहार किया लेकिन रॉय ने एक बार फिर केरल को मुश्किल से उबार लिया।

इसी हमले के दौरान केरल के डिफेंडर संदेश झिंगन से एक भारी भूल हुई। गेंद एडू के पास जाने से पहले झिंगन के करीब से गुजरी थी, जिसे रोकने के प्रयास में वह हाथ लगा बैठे। रेफरी ने इसे देख लिया और केरल के खिलाफ पेनाल्टी का फैसला सुनाया। साथ ही झिंगन को पीला कार्ड भी दिखाया गया।

कप्तान छेत्री ने इस मौके को हाथ से जाने नहीं दिया और पोस्ट के बाएं किनारे में गेंद को डालकर बेंगलुरू को 1-0 से आगे कर दिया। 73वें मिनट में रॉय को हैमस्ट्रींग के कारण मैदान से बाहर जाना पड़ा। पॉल राचहुब्का ने उनका स्थान लिया। चूंकी विदेशी खिलाड़ियों की संख्या चार बनाए रखनी थी, लिहाजा लोकेन मेतेई को अंदर लेकर सिफनोइस को बाहर किया गया।

अगले कुछ मिनट नाटकीय रहे लेकिन अंतिम मिनटों में बेंगलुरू ने केरल को पूरी तरह दोयम साबित करते हुए तीन मिनट के अंदर दो गोल दाग दिए। मिकू ने टीम के लिए दूसरा गोल बड़ी आसानी से किया। यह गोल सुभाशीष बोस के पास पर हुआ। अंतिम पलो में पेकुसन ने अकेले दम पर बेंगलुरू की रक्षापंक्ति में सेध लगाते हुए केरल के लिए पहला गोल किया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।