गजेंद्र सिंह शेखावत बोले, जनाजे में 15 हजार लोग, गहलोत सरकार चुप क्यों?

जयपुर। केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने राजधानी जयपुर में सोमवार को 15 हजार की भीड़ इकट्ठा होने पर राजस्थान सरकार पर तल्ख टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि जनता की जान जाती है तो जाए, बस कांग्रेस का वोट बैंक सुरक्षित रहे। ये है कांग्रेस की स्वकथित डेमोक्रेसी।

मंगलवार को जयपुर का वीडियो ट्वीट करते हुए शेखावत ने कहा कि राजस्थान में लॉकडाउन एक मजाक है। उन्होंने कहा कि शादियों में तो जमकर चालान काटे गहलोत जी की सरकार ने, जैसे राहुल गांधी ने आदेश दे रखा हो कि जहां भी शादी हो रही है, वहां जाओ, धर्म पूछो और चालान काट दो। यह भोली जनता के भोलेपन के सामने सरकार और प्रशासन की दादागिरी थी।

उन्होंने कहा कि अगर सौ लोगों के जमा होने के नाम पर आपके दिए हुक्म से एक लाख रुपए तक के चालान कटे, तब तो जयपुर में 15 हजार लोग खुलेआम आपकी पुलिस के सामने इकट्ठे हुए थे। इतने लोगों का कितना जुर्माना बनेगा और उसे अदा कौन करेगा? राहुल गांधी आगे आएंगे क्या? केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जनता को अपने चालान की रसीद सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आपसे यही सवाल करना चाहिए।

शेखावत ने आगे कहा कि लोकतंत्र की दुहाई देने वाले राहुल गांधी और अशोक गहलोत हाजी साहब की अंतिम यात्रा में बस शिरकत भर नहीं की, बाकी सब होने दिया। उन्होंने ने कहा कि राजस्थान में मजहबी सियासत का खेल हजारों लोगों की जान दांव में लगाकर खेला जा रहा है।

इनके लिए एक मजहब का वोट बैंक पूरी जनता की जान से ज्यादा जरूरी है। विधायक और दूसरे लोगों पर अपराध दर्ज करना तो एक औपचारिकता है, कायदे से मुख्यमंत्री के खिलाफ संगीन जुर्म बनता है। उन्होंने कहा कि अब जनता न्याय मांग रही है गहलोत साहब।

कोरोना एडवाइजरी की सबसे ज्यादा धज्जियां गहलोत सरकार ने उड़ाई : पूनियां