गहलोत साहब नियम टूटा है, अब बताएं किसके नाम पर जुर्माने की पर्ची कटेगी?

जयपुर। केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जोधपुर में शिलान्यास कार्यक्रम को प्रोपेगेंडा प्रोग्राम करार दिया है। शेखावत ने कटाक्ष किया कि मुख्यमंत्री जी, आज आपके शिलान्यास प्रोपेगेंडा प्रोग्राम से तय हो गया कि राजस्थान में जनता और सरकार के लिए अलग-अलग नियम हैं। जैसे अंग्रेजी राज में हुआ करते थे।

सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री के कार्यक्रम का पोस्टर, कार्यक्रम में उपस्थित भीड़ और राज्य सरकार की कोरोना प्रोटोकॉल की विज्ञप्ति को जारी करते हुए शेखावत ने कहा कि जी हां, पोस्टर पर सही लिखा है, आपकी हर पहल ऐतिहासिक ही होती है। कोरोना काल में आपने जनता को जंजाल में फंसाने का इतिहास ही रचा है। जोधपुर में विकास कार्यों के नाम पर आपने स्व-प्रचार का जो ऑनलाइन प्रोपेगेंडा रचा है, उसकी पोल ऑफलाइन नगर निगम के सभागार में खुल गई।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आपकी सरकार के आदेश से राज्यभर में कोरोना प्रोटोकॉल तय किया गया है, जिसके सात मुख्य नियमों में क्रमांक चार का नियम कहता है कि मल्टीप्लेक्स, थियेटर आदि के साथ सभागार भी बंद रखे जाएंगे।

आज एक नियम आपके कार्यक्रम में ही टूटा है, अब बताएं किसके नाम पर जुर्माने की पर्ची कटेगी? या फिर स्पष्ट कर दें कि जोधपुर नगर निगम का सभागार कोरोना प्रूफ है? और आप इतने बड़े जादूगर हैं कि वैक्सीन के साथ-साथ वायरस भी गायब कर देते हैं।

इसके अतिरिक्त ये भी जानना जोधपुर की जनता के लिए हरीरी है कि निगम के सभागार का सभा के इतर अन्य कार्य के लिए उपयोग कैसे हो सकता है और क्या इसका उपयोग कल कोंग्रेस पार्टी की मीटिंग या किसी विधायक नेता के पुत्र की जन्मदिन की पार्टी के लिए भी हो सकता है।

शेखावत ने तंज कसा कि आप तो आराम फरमाएंगे, लेकिन आपके डर से जितने अधिकारी-कर्मचारी जमा हुए थे, उनकी परवाह मुझे करनी है। मुझे ध्यान रखना होगा कि उन्हें कुछ न हो, और उनके द्वारा संक्रमण दूसरों को भी ना हो.. और यदि होता है तो समुचित चिकित्सा सुविधा मिले।

कोरोना की चुनौती के बीच पूरी प्रतिबद्धतासे गुड गवर्नेंस देने का प्रयास : गहलोत