गहलोत ने राजस्थान को भ्रष्टाचार में बनाया नंबर वन : शेखावत

जोधपुर। केंद्रीय जलशक्ति मंत्री और स्थानीय सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत ने रविवार को राज्य की अशोक गहलोत सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि पिछले 14 महीनों में गहलोत सरकार ने राजस्थान को भ्रष्टाचार और महिला अपराधों के मामले में देश में नंबर वन पर पहुंचा दिया है। सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है।

भाजपा जोधपुर देहात की ओर से सरपंच चुनाव को लेकर आयोजित पदाधिकारियों, मंडल अध्यक्षों की बैठक में शेखावत ने कहा कि कुछ समय पहले विकास के मापदंडों में राजस्थान देश में टॉप पांच राज्यों में खड़ा था, लेकिन दुर्भाग्य है कि पिछले 14 महीनों से राजस्थान की जनता भी अपने आपको कोस रही है कि उन सब मापदंडों पर राजस्थान लगातार पिछड़ता जा रहा है। अब यह अंतिम पंक्ति के राज्यों में आकर खड़ा हो गया है।

गहलोत सरकार पर तंज करते हुए शेखावत ने कहा कि ट्रांसपेरेंसी इंडिया के आंकड़ों के अनुसार राजस्थान भ्रष्टाचार के मामले में देशभर में अव्वल है, जबकि ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल के अनुसार नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद दुनिया में भारत की रैकिंग में 30 पायदान का सुधार हुआ है।

उन्होंने कहा कि 2018 के विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के वर्तमान नेतृत्व ने राज्य में महिलाओं पर बढ़ रहे अपराधों की चर्चा की थी, लेकिन इस सरकार के बनने के एक साल में राजस्थान में महिला अपराधों की गति देश में सबसे तेजी से बढ़ी है और यह नंबर एक पर आ गया है। महिला पर बढ़ रहे अपराधों की गति 65 प्रतिशत है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने किसानों, युवा और आम जनता के बीच भ्रांति फैलाकर किसी तरह सत्ता को हथिया है। आज सभी लोग खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनता कांग्रेस को सबक सीखाना चाहती है। यदि पार्टी कार्यकर्ता पूरी शक्ति के साथ कार्य करें तो पंचायती राज चुनाव में एतिहासिक अर्जित की जा सकती है।

मैं तो आप से हथाई करने आया हूं

शेखावत सुबह 11 बजे बापिणी पहुंचे और मेहोजी के प्राचीन मंदिर में दर्शन किए। मेहोजी सभा भवन बापिणी में ग्रामीणों की ओर से शेखावत का भव्य स्वागत किया गया। शेखावत ग्रामीणों के साथ जाजम पर बैठे। उनका स्वागत करके आयोजकों ने विचार व्यक्त करने का आग्रह किया तो शेखावत बोले, मैं तो यहां पर आप लोगों के साथ जाजम पर बैठकर हथाई करने आया हूं, ताकि घर में बैठक कर आप लोगों की समस्याओं को सुन सकूं। शेखावत ने लोगों की समस्याओं को सुना और संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए।