अगले साल के प्रारंभ में उड़ान भरने की तैयारी में जेट एयरवेज 2.0

नई दिल्ली। भारी आर्थिक तंगी के कारण दिवालिया हो चुकी जेट एयरवेज अगले वर्ष की पहली तिमाही में घरेलू उड़ान भरने की तैयारी कर रही है।

आर्थिक रूप से दिवालिया घोषित हो चुकी जेट एयरवेज के लिए सफलतापूर्वक बोली लगाने वाले आवेदक जलान कालरॉक कंसोर्टियम ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा कि वह अगले वर्ष की पहली तिमाही में जेट एयरवेज को फिर से उड़ाने की तैयारी में है। पहले घरेलू सेवा शुरू की जाएगी और उसके बाद कम दूरी की अंतरराष्ट्रीय उड़ाने शुरू करने की योजना है।

उसने कहा कि दो साल से अधिक समय से उड़ान नहीं भरने वाली इस एयरलाइन में वर्तमान एयर ऑपरेटर प्रमाणपत्र को फिर से वैधता दिलाने की प्रक्रिया जारी है। इसके साथ ही वह स्लॉट आवंटन के लिए संबंधित प्राधिकरणों और हवाईअड्डा कॉर्डिनेटरों के साथ काम कर रहा है। हवाई अड्डा इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ ही रात में पार्किग की भी आवश्यकता होगी।

कार्यकारी मुख्य कार्यकारी अधिकारी और अकाउंटेबल प्रबंधक कैप्टर सुधीर गौर की अगुवाई में कंसोर्टियम के वरिष्ठ सदस्यों और जेट एयरवेज 2.0 परिचालन दल ने पिछले महीने कई प्रमुख हवाई अड्डो का भ्रमण किया है।

जलान कालरॉक कंसोर्टियम के लीड सदस्य एवं जेट एयरवेज के प्रस्तावित गैर कार्यकारी अध्यक्ष मुरारी लाल जलान ने कहा कि जून 2021 में एनसीएलटी से अनुमोदन मिल गया और उसके बाद से उनका दल इस एयरलाइन को फिर से उड़ान भरने की तैयारी के लिए सभी संबंधित प्राधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहा है। जेट एयरवेज 2.0 अगले वर्ष की पहली तिमाही में घरेलू परिचालन और उसके बाद तीसरी चौथी तिमाही तक कम दूरी की अंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू करने की योजना है।

जलान ने कहा कि इस विमानन कंपनी के पास तीन वर्षाें में 50 से अधिक विमानों का बेड़ा होगा और पांच वर्षाें में यह संख्या एक सौ से अधिक हो जायेगी। हवाई जहाज का चयन दीर्घकानिक लीज के आधार पर किया जायेगा।

गौर ने कहा कि वैश्विक स्तर पर हवाई जहाज लीज पर देने वाली कंपनियों से घरेलू उड़ान के लिए विमान लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि जेट एयरवेज ने 150 से अधिक पूर्णकालिक कर्मियों की भर्ती की है और सभी क्षेत्रों में चालू वित्त वर्ष में एक हजार से अधिक कर्मचारियों की भर्ती करने की योजना है। कंपनी की पहली उड़ान दिल्ली मुंबई की होगी।