कोरोना वैक्सीन ‘जानसेन’ के देश में इस्तेेमाल को मिली मंजूरी

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने आज जॉनसन एंड जॉनसन की एकल डोज कोरोना वैक्सीन ‘जानसेन’ के देश में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को एक ट्वीट में कहा कि भारत ने वैक्सीन की संख्या बढ़ा दी है। जॉनसन एंड जॉनसन की एकल डोज कोरोना वैक्सीन को देश में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है। अब भारत में पांच तरह की वैक्सीन उपलब्ध होंगी।

जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद यह देश में इस्तेमाल की जानी वाली पांचवीं वैक्सीन होगी। एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड, देश में विकसित कोवैक्सीन, रूस में बनी स्पूतनिक और अमरीका में बनी मॉडर्ना के आपातकालीन इस्तेमाल की पहले ही मंजूरी मिली हुई है।

जॉनसन एंड जॉनसन ने ट्वीट कर कहा कि हमें यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि भारत सरकार ने सात अगस्त को जॉनसन एंड जॉनसन की कोविड-19 सिंगल डोज वैक्सीन के 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए आपातकालीन इस्तेमाल का अधिकार प्रदान कर दिया है।

इस अमेरिकी फार्मा कंपनी ने अपनी वैक्सीन के इस्तेमाल की अनुमति देने के लिए गुरुवार को आवेदन दिया था। अमरीकी सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रीवेन्शन के अनुसार जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन कोविड संक्रमण के लिए 66.3 फीसदी प्रभावी है और इसकी डोज लेने के दो सप्ताह बाद यह सर्वाधिक बचाव प्रदान करने लगती है।

कंपनी का हालांकि दावा है कि उसकी वैक्सीन कोरोना वायरस संक्रमण के गंभीर मामले में करीब 85 प्रतिशत प्रभावी है। वैक्सीन कोराेना संक्रमण के मामलों में लोगों को अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु से बचाने में कारगर साबित होती है।

जॉनसन एंड जॉनसन ने हैदराबाद की बॉयोलॉजिकल ई के साथ वैश्विक आपूर्ति नेटवर्क के लिए समझौता किया है। इस वैक्सीन को फरवरी में अमरीका में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी गई थी।