कीवी टीम मानसिक रूप से बहुत मज़बूत : केन विलियम्सन

मैनचेस्टर। न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ने भारत के खिलाफ विश्वकप सेमीफाइनल में मिली जीत के बाद खुशी जताते हुए कहा है कि उनकी टीम मानसिक रूप से बहुत मजबूत है जिसकी बदौलत उसे यह सफलता हासिल हुई है।

न्यूजीलैंड ने लगातार दूसरे विश्वकप के फाइनल में प्रवेश किया है। कीवी टीम ने ओल्ड ट्रेफर्ड में बारिश से प्रभावित मैच में भारत के खिलाफ दूसरे रिजर्व डे में मैच पूरा करते हुए 18 रन से जीत दर्ज की। कीवी टीम ने इस मैच में भारत के शीर्ष क्रम को उधेड़ कर रख दिया और 10वें ओवर तक आते आते 24 रन पर उसके चार विकेट हासिल कर लिए।

भारत के लिए केवल रवींद्र जडेजा(77) और महेंद्र सिंह धोनी(50) ने अर्धशतकीय पारियां खेलते हुये संघर्ष कर उम्मीद बंधाई लेकिन मार्टिन गुप्तिल ने धोनी को रनआउट कर आठवां अहम विकेट निकाला और 221 पर पूरी टीम को ढेर कर दिया। कीवी कप्तान ने जीत के बाद कहा कि हमारी टीम ने कमाल का जज्बा दिखाया और दिखाया कि वे मानसिक रूप से कितने मजबूत हैं।

उन्होंने कहा कि हमने गेंद से बढ़िया शुरूआत की और मजबूती से आगे बढ़े। हमारी टीम से जैसे प्रदर्शन की उम्मीद थी वैसा खेल हमने दिखाया लेकिन भारतीय टीम भी शानदार टीम है और 20 रन पर चार विकेट गंवाने के बाद भी उन्होंने बढ़िया वापसी की। एक समय गेम सही दिशा में जा रहा था लेकिन हम कम अंतर से जीते। पूरे मैच में बल्ले और गेंद से तथा क्षेत्ररक्षण हर लिहाज़ से सभी ने अपना योगदान दिया।

विलियम्सन ने भारतीय टीम के खिलाड़ियों खासकर जडेजा और धोनी की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि जिस तरह जडेजा और धोनी ने गेंद को हिट किया उससे वह एक समय मैच जीतने के करीब पहुंच गए थे लेकिन वहां हमारे क्षेत्ररक्षकों ने कमाल का खेल दिखाया। मार्टिन ने धोनी को जब रनआउट किया तो वह मैच का टर्निंग प्वांइट रहा।

न्यूजीलैंड के लिए फाइनल में पहुंचना इसलिए भी अहम है क्योंकि टीम नॉकआउट में पाकिस्तान, आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड से ग्रुप चरण में लगातार मैच हारी थी और मुश्किल से शीर्ष चार में रहकर सेमीफाइनल में जगह बना सकी। हालांकि कप्तान ने कहा कि इसके बावजूद उनकी टीम में किसी तरह की हड़बड़ाहट नहीं थी।

टीम के शीर्ष स्कोरर ने कहा कि जब हम अच्छा खेलते हैं तो किसी को भी हरा सकते हैं। हम आगामी चुनौती के लिए तैयार हैं और लार्ड्स में फाइनल खेलना निश्चित ही काफी खास होगा। हमने जो भी अच्छा प्रदर्शन इस मैच में किया उसे हम आगे भी दिखाएंगे और जिस क्षेत्र में हमें सुधार करना है वह करेंगे। हम क्रिकेट का मज़ा ले रहे हैं, घर लौटने से अच्छा है कि हम लंदन की बस पकड़ रहे हैं।

न्यूजीलैंड के कप्तान ने भारतीय टीम की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि अब तक का सफर कमाल का रहा है। लेकिन भारत में क्रिकेट को लेकर अलग ही जुनून है और हमें खुशी है कि भारत जैसा देश इस खेल का सबसे बड़ा समर्थक है। भारतीय टीम दुनिया की बेहतरीन टीमों में है लेकिन क्रिकेट अजीब खेल है खासकर सीमित ओवर प्रारूप में कुछ भी हो सकता है।

विलियम्सन ने मुस्कुराते हुए कहा कि वह चाहते हैं कि रविवार को होने वाले फाइनल मुकाबले में भारत के 1.5 अरब समर्थक उनकी टीम के लिए चीयर करें और पहली बार उसके विश्वकप जीतने के लिए उसकी हौंसलाअफजाई करें।

न्यूजीलैंड की टीम अब फाइनल में आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच होने वाले दूसरे सेमीफाइनल की विजेता टीम से भिड़ेगी। यदि इस मैच में मेज़बान टीम जीतती है तो वह भी न्यूजीलैंड की तरह अपने पहले विश्वकप खिताब के लिए खेलेगी।