पुलिस को अब है विकास दुबे के बचे 12 गुर्गों की तलाश

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कानपुर के चौबेपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपी विकास दुबे के मारे जाने के बावजूद पुलिस की तलाश अभी पूरी नहीं हुयी है। पुलिस अब उन बचे हुये 12 शातिरों की तलाश कर रही है जिन्होेने बिकरू गांव में दो जुलाई की रात दुस्साहिक वारदात को अंजाम दिया था।

अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने शुक्रवार को यहां पत्रकारों से कहा कि बिकरू कांड काे अंजाम देने के मामले में 21 अभियुक्तों को नामजद किया गया था जबकि 60 से 70 अन्य अभियुक्त भी पुलिस के राडार पर है।

उन्होंने बताया कि विकास दुबे समेत छह नामजद अभियुक्तों को अब तक ढेर किया जा चुका है जबकि तीन को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि अब 21 में से 12 शातिर अब भी खुली हवा में सांस ले रहे हैं जिनकी तलाश जारी है और उम्मीद है कि उन्हे भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

कुमार ने बताया कि अन्य अभियुक्तों में आठ को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपी विकास को गुरूवार को उज्जैन में गिरफ्तार किया गया था। पुलिस और एसटीएफ की टीम उसे लेकर कानपुर आ रहे थे कि भौंती के निकट पुलिस का वाहन पलट गया। इस बीच विकास एक घायल जवान की पिस्टल लेकर भागा।

पुलिस ने उसे आत्मसमर्पण करने को कहा लेकिन उसे नजरअंदाज करते हुए उसने पुलिस बल पर गोली चलाई जिससे चार स्थानीय पुलिस के जवान और दो एसटीएफ के जवान घायल हो गए। जवाबी कार्रवाई में विकास गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उपचार के दौरान उसकी मृत्यु हो गई।

8 पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी विकास दुबे पुलिस मुठभेड़ में ढेर