कानपुर में हिस्ट्रीशीटर का किलेनुमा घर जमीदोज़, पुलिस तलाश रही बंकर का रास्ता

कानपुर। उत्तर प्रदेश में कानपुर के चौबेपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले हिस्ट्रीशीटर के मकान को पुलिस प्रशासन ने नेस्तानाबूद कर दिया है।

पुलिस सूत्रों ने शनिवार को बताया कि दुस्साहिक वारदात को अंजाम देने के बाद फरार हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे और उसके साथियों की तलाश के लिए 50 से अधिक पुलिस टीमों को लगाया गया है। मकान की तलाशी के दौरान पुलिस को देर रात एक तलघर मिला है। बंकरनुमा तलघर को लकड़ी के पटरे से ढंका हुआ था।

पुलिस बंकर का सिरा तलाशने के लिए अब मकान को ढहाया जा रहा है। जेसीबी मशीन से चाहरदिवारी को गिराने का काम शुरू हो चुका है। इस दौरान परिसर के आसपास का इलाका सील कर दिया गया है और यहां पुलिस बलों के अलावा किसी को आने की इजाजत नहीं है।

उन्होंने बताया कि बिकरू गांव में करीब दो बीघा जमीन पर बने आलीशान मकान के भीतर पुराना जर्जर मकान भी है। पुलिस मकान के हर एक हिस्से की बारीकी से छानबीन कर चुकी है। परिसर के चारों ओर करीब 12 फुट ऊंची चाहरदिवारी को कंटीले तारों से लैस किया गया था।

मकान के मुख्य द्वार के अलावा तीन गेट और थे जिसमें से भारी वाहन भी आसानी से निकल सकते थे। सभी गेटों पर सीसीटीवी कैमरे लगे थे। घर में बाथटब से लेकर वाश बेसिन तक आधुनिक डिजाइन के थे। सुख सुविधाओं से भरपूर आवासीय परिसर की चाकचौबंद सुरक्षा व्यवस्था इस कदर सख्त है कि गेट पर पहुंचते ही सेवादार चौकन्ने हो जाते थे।

गौरतलब है कि बिकरू गांव में शुक्रवार और शनिवार की रात को हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे और उसके गुर्गो ने पुलिस बल पर उस समय हमला कर दिया था जब दुबे को गिरफ्तार करने तीन थानो की पुलिस पहुंची थी। इस घटना में एक पुलिस क्षेत्राधिकारी और एक थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे जबकि सात अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए थे। पुलिस ने घटना के बाद मुठभेड़ में हिस्ट्रीशीटर के दो रिश्तेदारों को मार गिराया था।