कानपुर हत्याकांड : चौबेपुर के पूर्व थानाध्यक्ष विनय तिवारी अरेस्ट

कानपुर। उत्तर प्रदेश में कानपुर के चौबेपुर क्षेत्र के निलंबित थानाध्यक्ष विनय तिवारी समेत दो पुलिस अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी ने बुधवार शाम यहां पत्रकारों को बताया कि चौबपुर के पूर्व थानाध्यक्ष विनय तिवारी और बीट प्रभारी केके शर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया है।

उन्होने बताया कि दोनों पर आरोप है कि पिछले गुरूवार को बिकरू गांव में दबिश देने गई पुलिस टीम को उन्होंने जान के खतरे में डाला और मुठभेड़ के बीच में ही मौके से भाग निकले। गिरफ्तार किए गए पुलिस कर्मियों पर यह भी उनके कुख्यात हिस्ट्रीशीटर और आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपी विकास दुबे से संबंध हैं।

गौरतलब है कि मुठभेड़ के बाद से ही विनय तिवारी और केके शर्मा पर पुलिस की दबिश के बारे में विकास दुबे को सूचना दिए जाने के आरोप लगते रहे हैं। मुठभेड़ के अगले दिन ही पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने विनय तिवारी को हिरासत में ले लिया था और उनसे गहन पूछताछ की गई।

पिछले गुरूवार और शुक्रवार की रात्रि बिकरू गांव में विकास दुबे और उसके गुर्गो ने सुनियोजित तरीके से दबिश देने गयी पुलिस टीम पर गोलियाें की बौछार कर दी थी जिसमें पुलिस क्षेत्राधिकारी देवेन्द्र मिश्र समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गये थे जबकि सात घायल हो गए थे।

चौबेपुर के थानाध्यक्ष विनय तिवारी दबिश देने गई टीम में शामिल थे लेकिन वह सबसे पीछे चल रहे थे और उनका बाल भी बांका नहीं हुआ। विकास और उसके गुर्गो ने पुलिसकर्मियों को जान से मारने की नीयत से जेसीबी मशीन बीच रास्ते में खड़ी कर दी थी और ऐन वक्त पर गांव की बिजली गुल कर दी गई थी। तीन थानों की पुलिस ने इस कार्रवाई में हिस्सा लिया था जबकि खुद का क्षेत्र होने के बावजूद विनय तिवारी सबसे पीछे थे।

इस मामले में मुखबिरी के शक में मंगलवार रात पूरा चौबेपुर थाना लाइन हाजिर कर दिया गया था और थाने में सभी नए पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। मामले की जांच लखनऊ की आईजी लक्ष्मी सिंह कर रही हैं।