करण्‍ाी सेना ने एससी/एसटी एक्ट के विरोध में मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा

करण्‍ाी सेना ने एससी/एसटी एक्ट के विरोध में मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा
करण्‍ाी सेना ने एससी/एसटी एक्ट के विरोध में मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा

जौनपुर । उत्तर प्रदेश के जौनपुर में गुरुवार को करणी सेना के नेतृत्व में विभिन्न संगठनो ने अनुसूचित जाति/जनजाति अधिनियम के विरोध में राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेटको सौंपा।

करणी सेना के प्रदेश महासचिव विराज ठाकुर ने कहा कि देश के लिए यह इकतरफा और काला कानून है जिसमें 22 प्रतिशत के लोंगो को खुश करने के लिये 78 प्रतिशत लोंगो के साथ केन्द्र सरकार ने विश्वासघात किया है। करणी सेना के जिलाध्यक्ष दीपक सिंह सोनू ने कहा इस एक्ट में अगर केन्द्र सरकार ने संशोधन नही किया तो पूरे देश में उग्र आन्दोलन होगा।

अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के प्रदेश प्रवक्ता सुधांशु सिंह और जिलाध्यक्ष राजकुमार सिंह ने कहा कि देश में कानून का राज खत्म हो चुका है। लोकतंत्र की जगह केन्द्र सरकार राजतंत्र के पथ पर अग्रसित है। राष्ट्रीय ब्राम्हण महासंघ के जिला प्रवक्ता परमानन्द चैबे ने कहा केन्द्र सरकार सवर्णो और पिछड़ों के साथ विश्वासघात किया है। हम लोकसभा चुनाव में भाजपा को बहिष्कृत करते है।

कायस्थ सेवा संघ के महामंत्री अमन अस्थाना ने कहा कि यह सामान्य वर्ग के लोंगो के साथ विश्वासघात है, बिना जांच के जेल जाना लोकतंत्र के लिए एकतरफा धब्बा है। यादव महासंघ के जिलासचिव मुकेश यादव ने कहा कि ये पिछड़ों के साथ अन्याय है। एस0सी0/एस0टी0 एक्ट में सबसे ज्यादा मुकदमा पिछड़े वर्ग के लोंगो के साथ हुआ है। इस कानून का हम पुरजोर रूप से विरोध करते है।