कर्नाटक विधानसभा चुनाव : एक्जिट पोल में BJP को भारी बढत

Karnataka Assembly Elections 2018 : Exit Polls suggest BJP leading party
Karnataka Assembly Elections 2018 : Exit Polls suggest BJP leading party

बेंगलुरु। कर्नाटक में 15वीं विधानसभा के लिए शनिवार को हुए मतदान के बाद सामने आए विभिन्न एक्जिट पोल में बीजेपी को भारी फायदा हो रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के धुंआधार चुनाव प्रचार का करिश्मा नजर आ रहा है।

लगभग सभी एक्जिट पोल में भारतीय जनता पार्टी को इस चुनाव सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरकर आने का अनुमान व्यक्त किया गया है। पांच एक्जिट पोल में भाजपा को 100 से ज्यादा सीटों पर जीतने का अनुमान व्यक्त किया गया है। पिछले चुनाव के मुकाबले पार्टी को ढाई गुना से ज्यादा सीटों का फायदा दिखाया गया है।

पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येद्दियुरप्पा ने पिछला चुनाव अपनी अलग पार्टी बनाकर लड़ा था। इसी तरह से भाजपा सांसद बी रामल्लु भी 2013 में अलग पार्टी बनाकर चुनाव मैदान में उतरे थे जिसका भाजपा को भारी खामियाजा भुगतना पड़ा और उसे सिर्फ 40 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इस बार पार्टी ने भ्रष्टाचार के आरोप से घिरे होने के बावजूद बीएस येद्दियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया था।

राज्य विधानसभा की 224 में से 222 के लिए आज मतदान हुआ है और सरकार बनाने के लिए किसी भी दल को 112 विधायकों की आवश्यकता है। ज्यादातर एक्जिट पोल के अनुसार किसी दल को स्पष्ट बहुमत मिलता नजर नहीं आ रहा है इसलिए पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के पुत्र एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली जनता दल-सेक्युलर (जद-एस) की सरकार के गठन में अहम भूमिका हो सकती है।

चाणक्य-टाइम्सनाउ के सर्वेक्षण के अनुसार इस चुनाव में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिल रहा है और उसे 120 सीटों पर जीत हासिल हो रही है। उसके सर्वे में कांग्रेस को भारी नुकसान हो रहा है और उसकी सीटें 122 से घटकर सिर्फ 73 पर खिसक रही है जबकि जनता दल को 26 सीटें मिल रही हैं। जद-एस ने पिछली बार विधानसभा की 40 सीटों पर जीत हासिल की थी।

न्यूजनेशन ने भाजपा को 107 सीटों पर जीतते हुए दिखाया है जबकि सीएनएक्स ने 106, जन की बात ने 105 तथा सी वोटर ने 103 सीटें दी हैं। न्यूज 18 ने भाजपा को 102 से 110 सीटों पर जीत हािसल करते हुए दिखाया है।

एक्सिस माई इंडिया ने कांग्रेस को 111 सीटें दी हैं जबकि भाजपा को 85 और जद एस को 26 सीटों दी है। सीवोटर ने भाजपा को सबसे बडी पार्टी बताया है और कहा है कि उसे 103 सीटों पर जीत हासिल होगी। कांग्रेस 93 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रहेगी जबकि जदएस को 25 सीटें मिलेंगी।

एनडीटीवी के एक्जिट पोल में भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर बतायी गयी है और दोनों को 94-94 सीटों पर जीत हासिल होने का अनुमान लगाया गया है। पोल्स ऑप पोल्स के सर्वेक्षण में भाजपा को 99 सीटें, कांग्रेस को 88 सीटें और जद-एस को 33 सीटों पर जीतते दिखाया गया है।

टाइम्स नाउ वीएमआर के एक्जिट पोल के अनुसार इस बार कांग्रेस का वोट प्रतिशत बढा है लेकिन उसकी सीटें घट रही हैं। जनता दल सेक्युलर काे मतप्रतिशत के हिसाब से इस बार घटा हो रहा है। भाजपा पिछले चुनाव में सिर्फ 20.7 प्रतिशत मत मिले थे जो इस बार बढकर 34.6 प्रतिशत तक पहुंच गए हैं। जद-एस का प्रतिशत भी घटा है और उसे इस बार 19.8 प्रतिशत वोट मिले हैं जबकि पिछली बार उसका मतदान प्रतिशत 20.19 था।

न्यूज चैनल प्रांजन ने भाजपा को पिछली बार के मुकाबले भारी बढत के साथ 102 से 110 सीटों पर जीत हासिल करते दिखाया है जबकि कांग्रेस को 60 से 80 और जद-एस के खाते में 22 से 30 सीटें दिखाई हैं। इसी तरह से न्यूज नेशनल ने 105 से 109 सीटों पर भाजपा की जीत दिखायी है।

सुवर्ण न्यूज चैनल ने कांग्रेस को सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने का अनुमान व्यक्त किया है। उसके सर्वें में कहा गया है कि पार्टी को 106 से 118 सीटें मिल सकती हैं। भाजपा के खाते में उसके सर्वे के अनुसार 79 से 92 सीटें आ रही हैं। चैनल ने जद-एस के खाते में 22 से 30 सीटें तक आने का अनुमान व्यक्त किया है।

भाजपा को एक्जिट पोल के अनुसार यदि जीत हासिल होती है तो इसे मोदी के धुंआधार चुनाव प्रचार का करिश्मा ही माना जाएगा। मोदी की रैली में अथाह भीड़ उमड़ रही थी और उन्होंने इस जन सैलाब को देखते हुए जगह-जगह टिप्पणी की थी कि कर्नाटक में भाजपा की हवा नहीं आंधी चल रही है।

एक्जिट पोल के जरिए जिस तरह के चुनाव परिणाम आने की संभावना व्यक्त की जा रही है उससे साफ है कि कर्नाटक चुनाव में मोदी का करिश्मा राज्य के सभी क्षेत्रों में रंग ला रहा है। प्रधानमंत्री ने एक से नौ मई तक हर दिन तीन से चार रैलियों को संबोधित किया था। भाजपा को एक्जिट पोल के अनुसार सीटें मिलती हैं तो 2008 के बाद भाजपा को कर्नाटक में सबसे बड़े दल के रूप में सरकार बनाने का मौका मिलेगा।

भाजपा को 2013 के चुनाव में राज्य विधानसभा की 40 सीटों पर जीत हासिल हुई थी जबकि कांग्रेस ने 122 सदस्यों के साथ पूर्ण बहुमत की सरकार का गठन किया था। जनता दल को 40 और येद्दियुरप्पा की कर्नाटक जनता पार्टी तथा अन्य को 22 सीटें मिली थीं।

एक्जिट पोल में कनार्टक के तटीय क्षेत्रों में भाजपा को छह से 10, कांग्रेस को 11 से 15 तथा अन्य के शून्य पर रहने का अनुमान व्यक्त किया गया है जबकि राज्य के हैदराबाद कर्नाटक क्षेत्र में भाजपा को 17 से 21 जबकि कांग्रेस को 10 से 14 सीटों पर जीत दर्ज करते हुए दिखाया गया है।

इसी तरह से राज्य के मुंबई कर्नाटक क्षेत्र में भाजपा को 20 से 26, कांग्रेस को 23 से 29 तथा जद-एस को एक सीट पर जीत हासिल करने की उम्मीद व्यक्त की गई है। जद-एस के गढ़ कहे जाने वाले पुराना मैसूर क्षेत्र में उसे 22 से 28, कांग्रेस को 15 से 21 और भाजपा को चार से 10 सीटों पर जीत हासिल करने का अनुमान लगाया गया है।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव : 70 प्रतिशत मतदान