कर्नाटक लोकायुक्‍त को ऑफिस के भीतर ही चाकू से गोदा

karnataka lokayukta justice p vishwanath
karnataka lokayukta justice p vishwanath shetty stabbed inside office, attacker arrested

बेंगलुरु। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में बुधवार को एक शख्स ने राज्य के लोकायुक्त पी. विश्वनाथ शेट्टी पर ऑफिस में घुसकर चाकू से हमला कर दिया। हमलावर ने जस्टिस शेट्टी पर ताबडतोड चाकू से कई वार किए।

शेट्टी को तुरंत माल्या अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी हालत गंभीर लेकिन फिलहाल खतरे से बाहर बताई जा रही है। पुलिस ने आरोपी शख्स को मौके से ही अरेस्ट कर लिया।

लोकायुक्त पर हमला बुधवार को उस वक्त हुआ जब वह अपने ऑफिस में एक केस की सुनवाई कर रहे थे। बताया जा रहा है कि आरोपी ने धारदार हथियार से पी विश्वनाथ पर कई बार हमला किया। इस घटना से हड़कंप मच गया। खून से लथपथ शेट्टी को तुरंत अस्पताल ले जाया गया।

तत्काल हरकत में आई पुलिस ने हमलावर धर दबोचा। उसने इस वारदात को क्यों अंजाम दिया, अभी इस बात का खुलासा नहीं हो पाया है। शेट्टी का इमर्जेंसी सेक्शन में इलाज चल रहा है।

कर्नाटक के गृह मंत्री रामलिंगा रेड्डी ने बताया कि शेट्टी अब खतरे से बाहर हैं और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। मामले में सुरक्षा में हुई चूक सामने आ रही है साथ ही इस बात की जांच हो रही है कि आरोपी हथियार के ऑफिस में घुसने में कामयाब कैसे हुआ। मामले में प्रत्यक्षदर्शी वकील जय अन्ना ने बताया कि एक व्यक्ति ने जज की हत्या करने की कोशिश की। उसने जज को तीन बार अपनी चाकू से मारा। जज फर्श पर गिर गए।

घटना की सूचना मिलने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री सिद्दारामैया और रेड्डी अस्पताल पहुंचे और शेट्टी के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली। इस बीच, विधि मंत्री टीबी जयचंद्र ने हमले की कड़े शब्दों में निंदा की और कहा कि यह बहुत गंभीर मामला है। रेड्डी ने कहा कि हम जांच करेंगे कि सुरक्षा में कहां चूक हुई है। सरकार इस घटना को गंभीरता से लेगी और हमले में शामिल लोगों के लिए कठोर दंड सुनिश्चित करेंगी।

पूर्व प्रधानमंत्री एवं जनता दल (एस) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एच डी देवेगौड़ा इस घटना पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए आरोप लगाया कि राज्य सरकार कानून और व्यवस्था बनाये रखने में असफल रही है। उन्होंने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस तरह के अपराध शहर के बीचोंबीच हो रहे हैं। इस तरह के कृत्यों की सभी को निंदा करनी चाहिए और अपराधी को दंडित किया जाना चाहिए।