हजारों वर्षों की तपस्या आज सार्थक हुई : योगी आदित्यनाथ

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को यहां काशी विश्वनाथ धाम परिसर के लोकार्पण समारोह में कहा कि मंदिर परिसर को नया स्वरूप मिलने के बाद हजारों वर्षों की तपस्या आज सार्थक हुई।

योगी ने अपने संक्षिप्त संबोधन में काशी विश्वनाथ काॅरीडोर परियोजना को साकार स्वरूप प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य सहित अन्य विशिष्ट अतिथि मौजूद थे।

योगी ने कहा कि हम सबका सौभाग्य है कि बाबा विश्वनाथ का धाम आज नए रूप में नए कलेवर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पीड़ा को दूर करने का भी काम किया है।

उन्होंने कहा कि लगभग ढाई सौ साल बाद काशी विश्वनाथ धाम के जीर्णोद्धार का संकल्प प्रधानमंत्री मोदी ने पूरा किया है। उन्होंने कहा कि देश की आजादी से पहले जब महात्मा गांधी काशी आए थे उस समय मंदिर परिसर की दुर्दशा देखकर उन्होंने भी इस अलौकिक स्थान के जीर्णोद्धार का सपना देखा था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी जी के नाम पर बहुत लाेगों ने सत्ता प्राप्त की होगी लेकिन बाबा विश्वनाथ मंदिर का जीर्णोद्धार होने का गांधीजी का सपना आज साकार हो रहा है।

मां गंगा की गोद में उनके स्नेह ने कृतार्थ कर दिया : मोदी