दिल्ली चुनाव के लिए ‘केजरीवाल गारंटी कार्ड’ जारी, भाजपा बेचैन

delhi-cm-arvind-kejriwals-comment-against-bihari-before-assembly-elections

दिल्ली विधानसभा के चुनाव 8 फरवरी को होने हैं । जब से चुनाव सर्वे में आम आदमी पार्टी को सबसे बड़ी पार्टी बताया है तब से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जबरदस्त उत्साहित हैं । आज अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा चुनाव को लेकर दिल्ली की जनता को रिझाने के लिए एक और जबरदस्त दांव चला है । मुख्यमंत्री केजरीवाल अब दिल्ली की जनता को चुनाव से पहले विकास कार्यों की गारंटी देना चाहते हैं । इसीलिए उन्होंने ‘केजरीवाल ‘गारंटी कार्ड’ का चुनावी दांव खेला है । हालांकि अभी तक भारतीय जनता पार्टी ने दिल्ली में अपना घोषणा पत्र जारी नहीं किया है, लेकिन केजरीवाल के गारंटी कार्ड से भाजपा बेचैन जरूर है । यही नहीं आने वाले दिनों में अरविंद केजरीवाल चुनावी सभा के दौरान कुछ और भी बड़े-बड़े वादे कर सकते हैं ।

5 साल में दिल्ली को चमका देंगे : केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि 5 साल में वह दिल्ली को चमका के दिखा देंगे । साथ ही साथ वह यह भी बोले कि 5 साल में वह लोगों को दिल्ली की यमुना में डुबकी जरूर लगवा देंगे । दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वादा किया कि दिल्लीवालों को फिलहाल फ्री मिल रही सुविधाएं अगले 5 साल भी जारी रहेंगी । इसके साथ ही उन्होंने दिल्ली की जनता से कुछ नए वादे भी किए । केजरीवाल ने कहा कि पहले से लागू योजनाएं लागू रहेंगी और कुछ योजनाएं ऐसी हैं जो अगले पांच साल में पूरी की जाएंगी । केजरीवाल के यह है वादे जो उन्होंने अभी तक दिल्ली की जनता से किए हैं, स्टूडेंट्स को भी फ्री बस यात्रा मिलेगी । फिलहाल दिल्ली में सिर्फ महिलाएं बस में फ्री सफर कर सकती है । बसों की तरह हर मोहल्ले में मार्शल होगा । इन्हें ‘मोहल्ला मार्शल’ कहा जाएगा । राजधानी में प्रदूषण को कम करने के लिए दिल्ली में 2 करोड़ से ज्यादा पेड़ लगाएं जाएंगे । यही नहीं यमुना को भी साफ किया जाएगा ।

भाजपा को भी दिल्ली के स्थानीय मुद्दों पर फोकस करना होगा

भारतीय जनता पार्टी को दिल्ली विधानसभा चुनाव को देखते हुए स्थानीय मुद्दों पर फोकस करना होगा । भाजपा आलाकमान को यह भी देखना होगा कि दिल्ली की जनता भाजपा से क्या उपेक्षा करती है, उसी अनुसार उसको अपना मेनिफेस्टो तैयार करना होगा । देश की राजधानी दिल्ली की अधिकांश जनता राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर यकीन नहीं रखती है । यह भाजपा को समझना होगा । पिछले 2 सालों से खिसकता जनाधार भाजपा के लिए सिरदर्द बना हुआ है । ऐसे में अगर दिल्ली भी भाजपा के हाथों से फिसलती है तो पार्टी का जनाधार और भी घट जाएगा ।

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार