केरल : जनजातीय युवक की हत्या के लिए 2 गिरफ्तार

Kerala: 2 arrested for killing tribal youth (Lead-1)
Kerala: 2 arrested for killing tribal youth (Lead-1)

सबगुरु न्यूज़, पलक्कड़(केरल) : मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने शुक्रवार को कहा कि पुलिस ने मानसिक रूप से अस्वस्थ जनजातीय युवक की हत्या में शामिल सात संदिग्धों में से दो को गिरफ्तार कर लिया है। पीड़ित की मां के अनुसार 27 वर्षीय जनजातीय युवक को चोरी के आरोप में भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला। युवक को ‘मानसिक रूप से अस्वस्थ’ बताया जा रहा है।

गुरुवार को हुई इस हिंसक घटना में शामिल युवक ने घटना से कुछ देर पहले सेल्फी खींच कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दी, जिसके बाद पूरे प्रदेश में इस घटना पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की गई है।

पुलिस कार्रवाई के बारे में विजयन ने अपने फेसबुक पोस्ट में कहा कि मैंने राज्य के डीजीपी को जांच तेजी से करने और इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं।

विजयन ने कहा कि  यह घृणित अपराध केरल के प्रगतिशील समाज के लिए धब्बा है। लेकिन मैं आपको निश्चिंत करना चाहता हूं कि सभी दोषियों के खिलाफ जल्द कार्रवाई की जाएगी, ताकि ऐसे अपराध, खासकर लंबे समय से उपेक्षित समाज के लोगों के साथ ऐसा न हो।

उन्होंने कहा कि  केरल को पूरी तरह सतर्क रहना चाहिए, ताकि हम लगातार एक सार्वभौमिक समाज में आगे बढ़ते रहें।घटना के बाद ट्विटर पर बड़ी संख्या में लोगों ने पोस्ट किया कि  सीएमओकेरला..कृपया इस मामले में तत्काल कार्रवाई करें और दोषियों को कानून के कटघरे में खड़ा करें।

मृतक मधु की मां ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा कि कल(गुरुवार) मेरे बेटे को कुछ लोगों ने अट्टापड्डी-अगाली के समीप चोर कहकर पीटा। उसके बाद उसे पुलिस के हवाला कर दिया, जहां उसकी हालत बिगड़ने पर उसे अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में उसकी मौत हो गई। वह चोर नहीं था, बल्कि मानसिक रूप से अस्वस्थ था।

पूरी घटना को मोबाइल से शूट किया गया और सोशल मीडिया पर डाल दिया गया। सुपरस्टार ममूटी ने अपने फेसबुक पोस्ट में कहा कि किसी को भी मधु को ‘जनजातीय’ कहकर संबोधित नहीं करना चाहिए।

ममूटी ने कहा कि  अगर कोई इंसान की तरह सोंचे, तो मैं यह कहूंगा कि लोगों ने मेरे भाई को मारा। मधु एक बेटा, एक छोटा या बड़ा भाई हो सकता है। किसी को भी किसी को चोर नहीं कहना चाहिए, अगर उसने खाने के लिए ऐसा किया, तो गरीबी हमारे समाज के द्वारा बनाई गई अवस्था है।

भाजपा के राज्य प्रवक्ता एम.एस. कुमार ने पत्रकारों से कहा कि राज्य सरकार को सहायता राशि के तौर पर 25 लाख रुपये देनी चाहिए।

कुमार ने कहा कि  यह बहुत आश्चर्यजनक है कि संबंधित मंत्री (राज्य के एससी/एसटी मंत्री ए.के. बालन) जो कि उसी जिले से आते हैं, सांत्वना देने के लिए जनजातीय गांव नहीं गए।

अभिनेता-निर्देशक जॉय मैथ्यू ने जब इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया, तब जाकर मुख्यमंत्री पिनरई विजयन समेत कई नेताओं ने घटना की निंदा की।

मैथ्यू ने कहा कि  यह हाल के दिनों में एक प्रकार की फासीवादी मलयाली मानसिकता उभरी है और इसे रोकने की जरूरत है। अगर पुलिस सोशल मीडिया पर इसे साझा करने के लिए मुझे गिरफ्तार करना चाहती है, तो उन्हें ऐसा करने दीजिए।

स्थानीय जनजातीय समुदाय ने घटना के प्रति विरोध जताया और मांग की है कि अगर घटना के पीछे शामिल लोगों को गिरफ्तार नहीं किया गया तो वे लोग विरोध प्रदर्शन शुरू करेंगे।

बालन ने पत्रकारों से कहा कि जिन्होंने यह दावा किया है कि युवक चोर था, यह आरोप उनका है। राज्य सरकार काफी कड़ाई से इसकी जांच करेगी और जिसने भी इस घटना को अंजाम दिया है, उसे बख्शा नहीं जाएगा।

राज्य पुलिस प्रमुख लोकनाथ बेहरा ने कहा कि उन्होंने यह मामल त्रिसूर के पुलिस महानिरीक्षक को सौंप दिया है और जो भी इस घटना के पीछे है, उसे छोड़ा नहीं जाएगा।

आपको यह खबर अच्छी लगे तो SHARE जरुर कीजिये और  FACEBOOK पर PAGE LIKE  कीजिए, और खबरों के लिए पढते रहे Sabguru News और ख़ास VIDEO के लिए HOT NEWS UPDATE और वीडियो के लिए विजिट करे हमारा चैनल और सब्सक्राइब भी करे सबगुरु न्यूज़ वीडियो