उर्स 2019 : अजमेर दरगाह पर झंडे की रस्म तीन मार्च को

अजमेर। अजमेर स्थित ख्वाजा गरीब नवाज के 807वें सालाना उर्स पर झंडे की रस्म तीन मार्च को होने के चलते दरगाह का प्रबंध संभालने वाली दरगाह कमेटी की आज एक आवश्यक बैठक गरीब नवाज अतिथि गृह मे संपन्न हुई।

बैठक की सदारत नायब सदर बाबर अशरफ ने की। बैठक में अशरफ ने कहा कि दरगाह कमेटी का प्रयास रहेगा कि उर्स में इस बार हर साल से बेहतर प्रबंध कराए जाएं तथा जायरीन की सहुलियत में कुछ नए इजाफे किए जाएं। उन्होंने कहा दरगाह कमेटी इस बार बारह सौ कार्यकर्ता दरगाह व कायड़ विश्राम स्थली पर तैनात करेगी।

दरगाह नाजिम शकील अहमद ने बताया कि जमादि-उल-आखिर का चांद नजर आ चुका है। जिसके चलते सालाना उर्स का आगाज तीन मार्च को बुलंद दरवाजे पर झंडे की रस्म अदा के साथ किया जाएगा।

इसके बाद सात या आठ मार्च को इस्लामी रजब माह का चांद नजर आने पर छह दिवसीय उर्स की विधिवत शुरुआत होगी। छठी का कुल 13 या 14 मार्च को होगा। इस दौरान जमादिउल आखिर की 29 तारीख यानी 7 मार्च को जन्नती दरवाजा भी खोला जाएगा।

उन्होंने बताया कि इस बार उर्स में जायरीन का आना बीस फरवरी तक जारी रहेगा। इस दौरान तीन जुम्मे पड़ने से जायरीन की आवक और नमाज का सिलसिला बना रहेगा। दरगाह कमेटी ने अपनी ओर से सभी तैयारियां शुरू कर दी है। प्रशासन भी अपनी ओर से उर्स की तैयारियों को तेजी से कर रहा है।