झुंझुंनू में नाबालिग के अपहरण के मामले में ग्रामीणों ने थाने पर किया पथराव

झुंझुंनू में नाबालिग के अपहरण के मामले में ग्रामीणों ने थाने पर किया पथराव
झुंझुंनू में नाबालिग के अपहरण के मामले में ग्रामीणों ने थाने पर किया पथराव

जयपुर । राजस्थान के झुंझुंनू में नाबालिग के अपहरण मामले में दोषियों को गिरफतार करने की मांग को लेकर आज ग्रामीणों ने पुलिस थाने पर पथराव और ताेड़फोड़ की। ग्रामीणों के इस पथराव में थानाधिकारी सहित तीन पुलिसकर्मी घायल हो गये।

ग्रामीणों के घेराव से घायल हुये थानाधिकारी अशोक चौधरी, सहायक उप निरीक्षक उमाशंकर और हैड कांस्टेबल नरेश मीणा को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां चिकित्सकों के अनुसार उनकी हालत गंभीर बनी हुयी है।

पुलिस ने दावा किया कि हालात पर काबू पा लिया गया है लेकिन एहतियात के तौर पर वहां अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। इसी बीच ग्रामीणों ने राजमार्ग पर डेरा डाल दिया है जिसके कारण आवागमन बाधित हो गया है।

पुलिस के अनुसार गुढागौडजी थाना क्षेत्र में गत सप्ताह एक समुदाय विशेष की नाबालिग लडकी के अपहरण करने के संबंध में नामजद रिपोर्ट दर्ज करायी गयी थी। इस मामले को लेकर पीडि़ता के परिजनों ने कल पुलिस उच्चाधिकारियों से भी बात की थी लेकिन नाबालिग का पता नही लगने और नामजद दोषियों के खिलाफ कार्यवाही नही होने के खिलाफ ग्रामीणों ने आज सुबह थाने पर प्रदर्शन और घेराव कि पुलिस के अनुसार मौके की नजाकता को देखते हुये थानाधिकारी अशोक चौधरी ने ग्रामीणों को समझाईश कर रहे थे।

तभी कुछ लोगों ने थाने पर पथराव कर दिया और वहां रखी पुलिस की गाडी के कांच तोड़ दिये । ग्रामीणों द्वारा अचानक की गयी कार्यवाही से पुलिसकर्मी अचंभित रह गये। इस पर पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर ग्रामीणों को वहां से हटाया। इसके बाद ग्रामीण वहां से हटकर राजमार्ग 37 पर डेरा डालकर बैठ गये है और सडक मार्ग को जाम कर दिया ।