नॉकआउट किंग मुक्केबाज विजेंदर की लगातार 11वीं जीत

नेवार्क। भारत के स्टार मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने अपना बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखते हुए यहां प्रोफेशनल सर्किट में हुए मुकाबले में अमरीका के मुक्केबाज माइक स्नाइडर को हराकर अपनी लगातार 11वीं बाउट जीत ली है।

हरियाणा के 33 वर्षीय विजेंदर ने प्रो मुक्केबाजी के मक्का कहे जाने वाले अमरीका में अपना पदार्पण मुकाबला खेला और शानदार जीत हासिल की। विजेंदर ने अपना विजयी अभियान जारी रखते हुए आठ राउंड के इस मुकाबले में स्नाइडर को चार राउंड में ही धो दिया। जीत के बाद विजेंदर ने प्रशंसकों को उनका समर्थन करने के लिए धन्यवाद दिया।

विजेंदर ने कहा कि काफी लंबे समय के बाद रिंग में इस तरह से वापसी करना बेहद सुखद है। अमरीका में आकर मुकाबले को जीतना काफी अच्छा है। यह मुकाबला वाकई काफी बेहतरीन था और मैं अमरीका में अपने पदार्पण मुकाबले में जीतने को लेकर काफी खुश हूं।

उन्होंने कहा कि इस मुकाबले को जीतने के लिए मुझे चार राउंड लगे। मुझे उम्मीद थी कि मैं दो या तीन राउंड में ही जीत जाऊंगा लेकिन यह मुकाबला चौथे राउंड में जाकर समाप्त हुआ।

मुकाबले के दौरान एक तरफ जहां स्नाइडर विजेंदर के खिलाफ संघर्ष करते नजर आए वहीं भारतीय मुक्केबाज पूरे बाउट के दौरान अपने प्रतिद्वंद्वी पर भारी पड़े। विजेंदर लगातार 10 बाउट जीतकर एक वर्ष के अंतराल के बाद रिंग में उतरे जबकि स्नाइडर 13-5-3 के रिकॉर्ड के साथ बड़ी उम्मीद लिए मुकाबले में उतरे थे।

विजेंदर ने कहा कि शीर्ष पर पहुंचना मेरा सपना है और अगली बार मेरा जिस किसी मुक्केबाज से मुकाबला होगा मैं उसके लिए पूरी तरह तैयार हूं। विजेंदर हाल ही में राजनीति में उतरने की तैयारी में थे और उन्होंने भारत में लोकसभा चुनाव भी लड़ा था जिसमें उन्हें शिकस्त मिली थी। लेकिन रिंग के इस बादशाह ने अपने पसंदीदा मैदान में सफल और विजयी वापसी की।

विजेंदर की इस जीत के बाद उनके ट्रेनर ली बियर्ड ने कहा कि मुझे खुशी है कि इतने लंबे अंतराल के बाद विजेंदर ने रिंग में बेहतरीन प्रदर्शन किया। इस मुकाबले के प्रति उनके जज्बे ने यहां उनकी मदद की है और अब हम उनके लिए और भी बड़े मुकाबले की तैयारी कर रहे हैं।

भारतीय मुक्केबाज से पराजित होने के बाद स्नाइडर ने कहा कि विजेंदर शानदार मुक्केबाज हैं और मुझे लगता है कि मैंने उनके अनुभव और तकनीक को नजरअंदाज किया। यह उनका दिन था और वह इस मुकाबले में जीते। मुझे कभी नहीं लगा था कि मैं शुरुआती राउंड में ही हार जाऊंगा।