कुलदीप यादव और भुवनेश्वर कुमार के विश्वकप टीम में चुने जाने पर उत्तर प्रदेश में जश्न

Kuldeep Yadav and Bhubaneswar Kumar selected in the World Cup team when up celebrate
Kuldeep Yadav and Bhubaneswar Kumar selected in the World Cup team when up celebrate

लखनऊ । विश्वकप के लिये सोमवार को चुनी गयी भारतीय टीम में जगह बनाने में सफल उत्तर प्रदेश के कुलदीप यादव और भुवनेश्वर कुमार के गृहनगर में जश्न का माहौल है।

क्रिकेट सामग्रियों के निर्माण के लिये विश्व विख्यात मेरठ के खेल प्रेमी गदगद है कि उनके शहर का खिलाड़ी एक बार फिर विश्वकप के लिये भारतीय टीम का हिस्सा बना जबकि चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव के शहर कानपुर के बाशिंदे खुशी से फूले नहीं समा रहे है कि पहली बार यहां का कोई खिलाड़ी विश्वकप खेलने जायेगा।

कानपुर में सोमवार रात क्रिकेट प्रेमियों और कुलदीप के साथियों ने पटाखे फोड़कर और मिठाई बांट कर अपनी खुशी का इजहार किया। लाल बंगला स्थित कुलदीप के घर पर बधाई देने वालों की भीड़ रही। पिता श्रीराम सिंह और माता ऊषा यादव को लोगों ने बधाई दी।

राेवर्स क्लब में कोच कपिल पांडे से क्रिकेट की बारीकियां सीखने वाले कुलदीप के साथियों अनिल राय, रवींद्र राय, अनमोल, शिवम दीक्षित, फैज अहमद ने चाइनामैन गेंदबाज के सुखद भविष्य की कामना की। कपिल पांडेय ने कहा कि कुलदीप का भारतीय विश्वकप टीम में चयन होना हम सभी के लिए गर्व की बात है। कुलदीप के लिए जो सपना देखा था वोे पूरा होता दिख रहा है।

अपनी रहस्यमयी गेंदों से बल्लेबाजों को चकमा देने के लिये कुलदीप को जाना जाता है। मिडिल ओवरों में कुलदीप यादव विरोधी टीम के स्कोर पर अंकुश लगाने के साथ विकेट निकालने में सफल रहते हैं। वर्ष 2015 के वर्ल्डकप के लिये कुलदीप भारतीय क्रिकेट टीम के शिविर में तो शामिल हुये थे लेकिन वह अंतिम 15 में जगह नहीं बना सके थे।

पिछले दो वर्षाें में कुलदीप भारतीय टीम से जुड़े हुए है और उनके प्रदर्शन में निरंतर सुधार देखने को मिल रहा है। इससे पहले कानपुर से फिरकी गेंदबाज गोपाल शर्मा भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके है हालांकि उन्हे विश्वकप में खेलने का मौका नहीं मिला था।

वर्ष 2016 में पहले टेस्ट मैच में कुलदीप ने आस्ट्रेलिया की सरजमी पर चार विकेट चटकाये थे। इसके बाद दुबई में उन्हे एशिया कप में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज का खिताब मिला । इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में 15 विकेट लेकर सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज का खिताब जीता। इसके बाद आस्ट्रेलिया में हुए टेस्ट सीरीज में छह विकेट झटके थे।

उधर, भुवनेश्वर कुमार पिछले विश्वकप में भारतीय टीम के सदस्य थे हालांकि चोट के चलते वह अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने में असफल हुये थे। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाड़ी भुवी दोनों तरफ कुशलता से स्विंग कराने में माहिर है। क्रिकेट प्रेमियो काे भरोसा है कि कुलदीप और भुवी विश्वकप में विरोधी टीमों की रीढ़ तोड़ने में सफल होंगे और टीम का एक बार फिर से विश्वकप जीतने का सपना पूरा होगा। विश्वकप का आगाज 30 मई से इंग्लैंड में होगा।