फुटबॉल विश्वकप : स्वीडन पर आखिरी मिनट की जीत से जर्मनी को लाइफलाइन

Lineker lavishes back-handed praise on Germans after late victory over sweden

सोच्चि। टोनी क्रूस के इंजरी समय में आखिरी मिनट के करिश्माई गोल से गत चैंपियन जर्मनी ने ग्रुप एफ में शनिवार को स्वीडन को 2-1 से मात देकर फीफा विश्व कप फुटबॉल टूर्नामेंट के नॉकऑउट दौर में पहुंचने की उम्मीदों को जिन्दा रखा।

ब्राजील में चार वर्ष पहले चैंपियन बनी जर्मन टीम ने अपना पहला मैच मैक्सिको के खिलाफ 0-1 से गंवा दिया था और स्वीडन के खिलाफ मुकाबले में वह पहले हाफ तक एक गोल से पिछड़ गयी थी लेकिन जर्मनी ने दूसरे हाफ में दो गोल कर अपनी उम्मीदों को कायम रखा।

90 मिनट तक स्कोर 1-1 से बराबर रहने के बाद मैच इंजरी समय में प्रवेश का चुका था और ऐसा लग रहा था कि जर्मनी को अंक बांटने के लिए मजबूर होना पड़ेगा लेकिन आखिरी मिनट में जैसे करिश्मा हो गया और पूरा जर्मन खेमा और उनके प्रशंसक ख़ुशी से उछल पड़े।

जर्मनी को आखिरी पलों में बॉक्स के बाहर फ्री किक मिली और क्रूस का लहराता शॉट गोलकीपर की पहुंच से दूर गोल में समा गया। जर्मनी की दो मैचों में यह पहली जीत है और अब उसके स्वीडन के बराबर तीन अंक हो गए हैं। दोनों टीमें मेक्सिको से पीछे हैं हैं जिसके छह अंक हैं।

जर्मनी की इस जीत के बाद चार बार के चैंपियन जर्मनी, स्वीडन और मेक्सिको को अंतिम ग्रुप मैचों का इन्तजार करना होगा। अंतिम मैचों में जर्मनी का मुकाबला कोरिया से और स्वीडन का मुकाबला मेक्सिको से होना है जिसके बाद ही इस ग्रुप से अगले दौर में जाने वाली दो टीमों का फैसला होगा। कोरियाई टीम अपने दोनों मैच हारकर बाहर हो चुकी है।

मैच में स्वीडन ने जहां पहले हाफ में दबदबा बनाया वहीं जर्मनी ने दूसरे हाफ में बेहतर वापसी की। जर्मनी ने दूसरे हाफ में चैंपियन वाले तेवर दिखाए। निर्धारित समय से कुछ पहले जर्मनी का एक शानदार प्रयास पोस्ट से टकरा गया था वरना मैच का उसी समय फैसला हो जाता।

स्वीडन ने 32वें मिनट में बढ़त बनायी जब ओला तोइवोनेन ने गोल कर दिया। दूसरा हाफ शुरू होते ही 48वें मिनट में जर्मनी के मार्क रियुस ने टिमो वेर्नर के नीचे रहते क्रॉस पर बराबरी का गोल दाग दिया।

क्रूस ने इंजरी समय में करिश्माई गोल किया और जर्मनी को जीत दिलाई। जोआकिम लोउ की टीम के लिये इस जीत के बाद विश्वकप का सफर जारी है। इस हार के बाद स्वीडन के लिए मेक्सिको के खिलाफ आखिरी मैच करो या मरो का मुकाबला बन गया है।

आखिरी मैचों में यदि जर्मनी और स्वीडन जीतते हैं तो जर्मनी, मेक्सिको और स्वीडन के छह -छह अंक हो जाएंगे और ऐसी स्थिति में गोल औसत दो टीमों का फैसला करेगा।