देश में पहली बार हुआ एक किडनी वाले मरीज का लिवर ट्रांसप्लांट

देश में पहली बार हुआ एक किडनी वाले मरीज का लिवर ट्रांसप्लांट
देश में पहली बार हुआ एक किडनी वाले मरीज का लिवर ट्रांसप्लांट

रायपुर । छत्तीसगढ़ में पहली बार लिवर ट्रांसप्लांट करने का ऑपरेशन राजधानी रायपुर के बालाजी अस्पताल में सफल हुआ है। डॉक्टरों के अनुसार यह देश का भी पहला केस होगा जिसमें कन्जनाइट सोलिट्री (जन्मजात एक किडनी) वाले मरीज का सफल लिवर ट्रांसप्लांट हुआ है।

बालाजी सुपर स्पेश्यालिटी अस्पताल के संचालक डॉ देवेंद्र नायक ने बताया कि पिछले 7-8 साल से लिवर की परेशानी से जूझ रहे छत्तीसगढ़ आर्म्स फोर्स की 10वीं बटालियन में ट्रेड कांस्टेबल के पद पर पदस्थ अंबिकापुर निवासी 45 वर्षीय सुदामा वर्मा को उनकी पत्नी छटनी देवी ने लिवर का हिस्सा देकर कर उनकी जान बचाई है। चालीस डॉक्टरों की टीम ने करीब 20 घंटे तक चले इस आॅपरेशन के बाद मरीज की 336 घंटे सतत निगरानी और देखभाल कर सफल इलाज किया है।

उन्होंने बताया कि यह लिवर ट्रांसप्लांट का यह पहला ऐसा मामला है जो छत्तीसगढ़ में हुआ है। वहीं, यह देश का भी पहला केस होगा जिसमें कन्जनाइट सोलिट्री वाले मरीज का सफल लिवर ट्रांसप्लांट हुआ है।

प्रत्यारोपण करने वाली टीम के प्रमुख डॉ बाला चंद्रन मेमन, डॉ.देवेन्द्र नायक और डॉ पुष्पेन्द्र नायक ने बताया कि दानदाता से लिवर का हिस्सा निकालने का ऑपरेशन सुबह साढ़े 6 बजे शुरू हुआ, जो देर रात करीब 2 बजे तक चला। जैसे ही यह हिस्सा निकाला गया, उसे तुरंत दूसरे ऑपरेशन थियटर में वर्मा के पास ले जाया गया। वहां रात्रि करीब 8 बजे ऑपरेशन शुरू किया गया, जो मध्यरात्रि ढाई बजे तक पूरा हुआ। ऑपरेशन सफल रहा है।

डॉक्टरों का कहना है कि दान करने वाले व्यक्ति का लिवर 3 से 6 सप्ताह में दोबारा सामान्य आकार का हो जाएगा। लिवर शरीर का ऐसा अंग है, जिसका आकार बढ़ता रहता है। आॅपरेशन के बाद मरीज पहले की तरह जीवन-यापन कर सकता है।