भगवान शिव के इस मंदिर में छुपे हैं रहस्य

Lord Shiva is hidden in this temple
Lord Shiva is hidden in this temple

भगवान शिव के मंदिरों की संख्या हजारों में है|  भोले के कई मंदिर ऐसे भी हैं, जो रहस्य से भरे हुए हैं| ऐसा ही एक मंदिर तमिलनाडु के तंजौर जिले में स्थित है| इस मंदिर को ग्यारहवीं सदी के आरंभ में बनाया गया था| इस मंदिर के रहस्य को कोई भी सुलझा नहीं पाया है| इस मंदिर का नाम बृहदेश्वर मंदिर है| चोल शासकों ने इस मंदिर को राजराजेश्वर नाम दिया था| लेकिन तंजौर पर हमला करने वाले मराठा शासकों ने इस मंदिर को बृहदेश्वर नाम दे दिया था| ये वास्तुकला, पाषाण व ताम्र में शिल्पांकन, चित्रांकन, नृत्य, संगीत, आभूषण एवं उत्कीर्णकला का बेजोड़ नमूना है| इस भव्य मंदिर को साल 1987 में यूनेस्को ने विश्व धरोहर घोषित किया|मंदिर के निर्माण में एक लाख 30 हजार टन ग्रेनाइट से इसका निर्माण किया गया| यह रहस्य है कि इतने विशाल पत्थरों को हजारों साल पहले यहां कैसे लाया गया था| मंदिर में पत्थरों को जोड़ने के लिए सीमेंट या किसी किस्म के ग्लू का इस्तेमाल नहीं किया गया है| इसकी बजाए इसे पजल्स सिस्टम से जोड़ा गया है|

Video:HOT NEWS UPDATE : बीच सड़क पर इन दोनों लड़कियों ने ये किया की सब देखते ही रह गए || जानने के लिए देखिये ये वीडियो

तंजौर के हर कोने से मंदिर को देखा जा सकता है|

इस मंदिर के निर्माण कला की प्रमुख विशेषता यह है कि दोपहर को मंदिर के हर हिस्से की परछाई जमीन पर दिखती है|लेकिन इसके गुंबद की परछाई पृथ्वी पर नहीं पड़ती|

मंदिर के शिखर पर स्वर्णकलश स्थित है इसे सिर्फ एक पत्थर से बनाया गया है|  इसका वजन 80 टन है|

Video:HOT NEWS UPDATE : बेटे और पिता ने बुरी तरह से मारा पुलिस वालो को || जानने के लिए देखिये ये वीडियो

आपको यह खबर अच्छी लगे तो SHARE जरुर कीजिये और  FACEBOOK पर PAGE LIKE  कीजिए, और खबरों के लिए पढते रहे Sabguru News और ख़ास VIDEO के लिए HOT NEWS UPDATE और वीडियो के लिए विजिट करे हमारा चैनल और सब्सक्राइब भी करे सबगुरु न्यूज़ वीडियो