भगवान शिव भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों के भी कोने-कोने में

भगवान शिव के मंदिर दुनिया के हर कोने-कोने में हैं, देश से विदेश में साउथ अफ्रीका, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया तक भगवान के ऐसे भव्य शिव मंदिर हैं जिनका दर्शन करने के लिए लाखों भक्तों की भीड़ आती हैं।

तो चलिए जानते हैं भगवान शिव के विदेशों में स्थापित ऐसे मंदिर जहां उनके दर्शन करने के लिए देशी हो या फिर विदेशी सभी तरह के भक्त पहुंचते हैं।

प्रम्बानन मंदिर (इंडोनेशिया)

प्रम्बानन मंदिर इंडोनेशिया के जावा नाम की जगह पर है। यह मंदिर 10वीं शताब्दी में बना था। यह शहर से 17 कि.मी की दूरी पर स्थित है। इंडोनेशिया में घूमने आने वाले लोग इस मंदिर में दर्शन करने जरूर जाते हैं।

कटासराज मंदिर (पाकिस्तान)

कटासराज मंदिर पाकिस्तान से 40 किलोमीटर की दूरी पर है। यह कटस में एक पहाड़ी पर स्थित है। महाभारत काल में भी यह मंदिर था। पांडवों की इस मंदिर से कई कथाएं जुड़ी हैं। इस मंदिर का कटाक्ष कुंड भगवान शिव के आंसुओं से बना है। इस कुंड के निर्माण के पीछे एक कथा है।

ऐसा कहा जाता है कि देवी सती की मृत्यु हो जाने पर भगवान शिव के आंसुओं से दो कुंड बन गए जिसमें से एक कुंड राजस्थान के पुष्कर में है और दूसरा कटासराज मंदिर में।

मुन्नेस्वरम मंदिर (श्रीलंका)

मुन्नेस्वरम मंदिर का इतिहास रामायण काल से सम्बंधित है। मान्यताओं के अनुसार, रावण को मारने के बाद भगवान श्री राम चन्द्र जी ने इसी जगह पर भगवान शिव की पूजा की थी। इस मंदिर में पांच मंदिर हैं, जिनमें से सबसे विशाल मंदिर भगवान शिव का है।

इसके अलावा नेपाल में पशुपतिनाथ मंदिर, ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न में शिवा-विष्णु मंदिर, कैलिफोर्निया के लिवेरमोरे में शिवा विष्णु मंदिर भी बहुत ज्यादा फेमस हैं।