मध्यप्रदेश में वैलेंटाइन डे पर कहीं उत्पात, कहीं धमाल

Couples Made To Do Squats As Punishment For Valentine's Day
Couples Made To Do Squats As Punishment For Valentine’s Day

भोपाल/झांसी। देश के अन्य हिस्सों की तरह मध्यप्रदेश और राज्य के बुंदेलखंड क्षेत्र में भी वैलेंटाइन डे मनाया गया। कहीं हिंदूवादी संगठनों ने प्रेमी जोड़ों के साथ अभद्रता की तो कहीं, समाज के स्वंभू ठेकेदारों को करारा जवाब देते हुए विवाहित जोड़ों ने जमकर नाच-गाकर आपस में माला पहनाकर अपने प्रेम का इजहार किया।

हिंदूवादी संगठनों से जुड़े लोगों ने अपनी संस्कृति का हवाला देकर प्रेमी जोड़ों के साथ मारपीट की। राजधानी में हिंदूवादी संगठनों से जुड़े कार्यकर्ता टोलियां बनाकर गले में भगवा गमछा डालकर बागीचों, मॉल से लेकर अन्य स्थानों पर प्रेमी जोड़ों को तलाशते रहे। इसके चलते हर तरफ उन युवाओं का बुरा हाल रहा, जो अपने साथी के साथ शहर में घूमने निकले थे।

राजधानी में देर शाम को हिंदूवादी संगठन से जुड़े युवाओं ने हुक्का-बार लॉज के सामने पहुंचकर प्रदर्शन किया। इससे वहां मौजूद प्रेमी जोड़ों में दहशत फैल गई।

जबलपुर के देवतालबाग में संस्कृति के स्वयंभू ठेकेदारों ने प्रेमी जोड़ों की पिटाई कर दी। वहीं कई युगल जोड़ों को खदेड़ दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने इन जोड़ों को किसी तरह बचाया। पुलिस संस्कृति के स्वयंभू ठेकेदारों के आगे लाचार दिखी, क्योंकि उनके गले में भगवा गमछा होने का मतलब उन्हें अच्छी तरह पता है।

ग्वालियर के फूलबाग में भी हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने युवा जोड़ों को परेशान किया। इतना ही नहीं, फूलों की कई दुकानों तक को बंद करा दिया। वैलेंटाइन डे के मद्देनजर पुलिस प्रशासन ने भी सुरक्षा जवानों को प्रमुख स्थानों पर तैनात किया है।

एक तरफ जहां वैलेंटाइन डे का हिंदूवादी संगठनों ने विरोध किया, वहीं बुंदेलखंड के झांसी में युगल जोड़ों ने नाच-गाने के बीच अपने प्रेम का इजहार किया। साथ ही सभी को संदेश दिया कि प्रेम ही है जो सबको करीब लाता है।

सामाजिक संस्था कोहिनूर द्वारा आयोजित समारोह में जहां जोड़ों ने एक दूसरे को वरमाला पहनाई, वहीं संगीत की धुन पर ठुमके भी लगाए। अध्यक्ष वैशाली पुंशी ने बताया कि उनकी संस्था ने यह आयोजन आपसी प्रेम को बढ़ावा देने के मकसद से किया। ऐसा इसलिए, क्योंकि प्रेम एक विश्वास और सुरक्षा का बंधन है।

पुंशी ने एक विज्ञप्ति जारी कर बताया है कि इस आयोजन में सम्मिलित हुए युगल जोड़ों ने अपनी पुरानी यादों को ताजा करते हुए, एक-दूसरे के गले में वरमाला डाली और सात फेरे भी लिए। यह बंधन अटूट रहे, यही कामना की।