महंत नरेन्द्र गिरी मौत का मामला: आनंद और अद्या तिवारी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

प्रयागराज। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी के शिष्य और हनुमान मंदिर के पुजारी अद्या तिवारी को अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा।

महंत नरेन्द्र गिरी की संदिग्ध मौत के मामले में गिरफ्तार योग गुरू आनंद गिरी और बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी अद्या तिवारी से एसआईटी पिछले कई घंटे से पूछताछ कर रही थी। एसआईटी ने बुधवार शाम चार बजे दोनो आराेपियों को अदालत में पेश किया, सीजेएम हरेन्द्र तिवारी ने आरोपियों के उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

गौरतलब है कि अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने सुसाइड़ नोट में स्वामी आनंद गिरी, अद्या तिवारी और उसके पुत्र संदीप तिवारी को आत्महत्या करने का जिम्मेदार करार दिया। उन्होंने 12 पन्ने के सुसाइडनोट में अधिकांश जगह इन्हीं तीनों को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था।

सुसाइड नोट के अनुसार मैं 13 सितंबर को ही आत्महत्या करने जा रहा था लेकिन हिम्मत नहीं कर पाया। जब हरिद्वार से सूचना मिली कि एक-दो दिन में ‘आनंद गिरि’ कंप्यूटर के माध्यम से मोबाइल से किसी लड़की या महिला के साथ गलत काम करते हुए मेरी फोटो लगाकर वायरल कर देगा, मैंने सोचा कि कहां-कहां सफाई दूंगा, एक बार तो बदनाम हो जाऊंगा। सच्चाई तो लोगों को बाद में पता चल ही जाएगी लेकिन मै तो बदनाम हो जाऊंगा। इसलिए मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं।

उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा है कि आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनका लड़का संदीप तिवारी मिलकर मेरे साथ विश्वासघात किया। उन्होंने लिखा है कि प्रयागराज के सभी पुलिस अधिकारी एवं प्रशासनिक अधिकारियों से अनुरोध करता हूं। मेरे आत्महत्या के जिम्मेदार उपरोक्त लोगों पर कानूनी कार्रवाई की जाए। जिससे मेरी आत्मा को शांति मिले।

महंत नरेन्द्र गिरी को बाघम्बरी गद्दी मठ में दी गई भू-समाधि

महंत नरेन्द्र गिरी के सुसाइड नोट में आनंद, अद्या और संदीप का नाम

महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित