VIDEO अजमेर : फूलों और रंगीन होर्डिंगों से सजा महात्मा ज्योतिबा फुले सर्किल

mahatma jyotiba phule 191th birth anniversary celebration and events in ajmer

अजमेर। फूल मालाओं से लकदक महात्मा ज्योतिबा फुले की प्रतिमा, बैनरों और बधाईयों के होर्डिंग तथा रंगीन फर्रियों से शोभित हो रहा ज्योतिबा फुले सर्किल। अजमेर में ज्योतिबा फुले की 191वीं जयंती के मौके पर माली सैनी समाज उल्लासित है। दलितों और पिछडों के मसीहा ज्योतिबा फुले की जयंती के उपलक्ष्य में बीते तीन दिन से शहर के विभिन्न आयोजन हो रहे हैं।

अजमेर क्लब के पास स्थित ज्योतिबा फुले सर्किल की बुधवार को शानदार तरीके से सजावट की गई। फूलों से ज्योतिबा फुले की प्रतिमा बरबस आमजन को आकर्षित कर रही है। गर्मी में शीतल पेय का वितरण कर माली समाज के लोग धर्मलाभ लेने में पीछे नहीं है। पशुपक्षियों के दाने पानी के लिए निशुल्क परींडे बांटे जा रहे हैं।

महात्मा ज्योतिबा फुले जयंती को लेकर माली सैनी समाज का उत्साह इस बात का गवाह है कि अब यह समाज न केवल पूर्ण जाग्रत हो चुका है बल्कि दूसरे समाजों के लिए भी मिसाल पेश कर रहा है। दलितों और पिछडों के लिए सारी उम्र खपा देने वाले ज्योतिबा फुले की मेहनत रंग लाई है। उनकी पत्नी मां सावित्री फुले के महिला शिक्षा के लिए किए कार्य अब फलीभूत होते नजर आते हैं।

माली सैनी समाज की अलग अलग संस्थाओं के सामूहिक प्रयास हर साल की तरह इस बार भी बुधवार अपराहन विशाल वाहन रैली का आयोजन भी रखा गया है। वाहन रैली अपराहन तीन बजे राजा साईकिल चौराहे से शुरू होर्गी। माली सैनी समाज एकता मंच के सान्निध्य निकाली जाने वाली वाहन रैली मार्टिंडल ब्रिज, स्टेशन रोड,क्लाक टॉवर, मदारगेट, गांधी भवन, चूडी बाजार,नया बाजार, आगरा गेट,जयपुर रोड, भोजी मिष्ठान भंडार, अंबेडकर चौराहा होते हुए ज्योतिबा फुले सर्किल पर पहुंचेगी। मार्ग में जगह जगह रैली का अजमेर जिला माली सैनी सामूहिक विवाह समिति की ओर से स्वागत द्वार लगाकर तथा पुष्पवर्षा कर स्वागत किया जाएगा।

शाम 7 बजे ज्योतिबा फुले सर्किल पर महात्मा ज्योतिबा फुले राष्ट्रीय जागृति मंच की ओर से रैली का स्वागत होगा तथा भव्य आति​शबाजी की जाएगी। प्रसादी की भी व्यवस्था की गई है।

यह भी पढें
VIDEO ‘दलित और पिछडे वर्ग के मसीहा थे महात्मा ज्योतिबा फुले’
महात्मा जयोतिबा फुले सामाजिक क्रांति के अग्रदूत : वसुंधरा राजे

जयंती पर विशेष : समरस समाज के पुरोधा थे महात्मा ज्योतिबा फुले