अजमेर में धूमधाम से मनाई महात्मा ज्योतिबा फुले जयंती

अजमेर। समाज सुधारक एवं शिक्षा के पूरोधा महात्मा ज्योतिबा फुले की 191वीं जयंती बुधवार को उत्साह के साथ मनाई गई। विभिन्न संगठनों की ओर से ज्योतिबा फुले सर्किल पर स्थित उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की गई। जयंती पर वाहन रैली निकाली गई। फुले प्रतिमा पर शाम को ग्यारह सौ दीपक से दीपदान का आयोजन किया गया।।

फुले जयन्ती के अवसर पर माली समाज की ओर से पक्षियों की जल व्यवस्था के लिए निःशुल्क परिण्डे भी वितरित किए गए। ज्योतिबा फुले सर्किल पर आमजन के लिए शीतल पेय के रूप में मिल्क शेक की भी व्यवस्था की गई।

पक्षियों की जल व्यवस्था के लिए निःशुल्क परिण्डे वितरण करते महापौर धर्मेन्द्र गहलोत।

इस अवसर पर राजस्थान की महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिता भदेल ने कहा कि महात्मा फुले ने जीवनभर समाज की गलत परंपराओं को खत्म करने में अपना समय लगा दिया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में समाज में कुछ बची कुरीतियों को उनके आदर्शों व सिद्धांतों से दूर किया जा सकता है।

महापौर धर्मेन्द्र गहलोत ने कहा कि महात्मा फुले ने विपरीत परिस्थितियों में काम किया और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए इसकी शुरुआत अपने परिवार से की।

शहर कांग्रेस अध्यक्ष विजय जैन ने इस मौके पर कहा कि महात्मा ज्योतिबा फुले ने समाज सुधार के क्रम में नारी शिक्षा को महत्व देते हुए अपनी पत्नी से इसकी शुरुआत की।

केकडी में ज्योतिबा फुले की प्रतिमा का लोकार्पण

इसी तरह अजमेर की केकडी तहसील में महात्मा ज्योतिबा फुले जयंती पर नगरपालिका बोर्ड की ओर से ज्योतिबा फुले सर्किल पर उनकी मूर्ति का लोकार्पण किया गया। ज्योतिबा फुले युवा संस्थान की ओर से नगर में विशाल वाहन रैली निकाली गई।

यह भी पढें
VIDEO अजमेर : फूलों और रंगीन होर्डिंगों से सजा महात्मा ज्योतिबा फुले सर्किल
फूलों और रंगीन होर्डिंगों से सजा महात्मा ज्योतिबा फुले सर्किल
जयंती पर विशेष : समरस समाज के पुरोधा थे महात्मा ज्योतिबा फुले
VIDEO ‘दलित और पिछडे वर्ग के मसीहा थे महात्मा ज्योतिबा फुले’
महात्मा जयोतिबा फुले सामाजिक क्रांति के अग्रदूत : वसुंधरा राजे