वैष्णो देवी धाम में हादसे के बाद शुरू हुई यात्रा : श्राइन बोर्ड

जम्मू। जम्मू-कश्मीर के कटरा में माता वैष्णो देवी भवन हुए हादसे के कुछ घंटों बाद शनिवार को तीर्थ यात्रा फिर से शुरू हो गई। गौरतलब है कि शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात माता वैष्णो देवी मंदिर में मची भगदड़ में 12 तीर्थयात्रियों की मौत हो गई है तथा 15 अन्य घायल हो गए।

माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने जानकारी देते हुए कहा कि यात्रा नियंत्रित और सुचारू रूप से जारी है। बोर्ड की ओर से जारी बयान में कहा गया कि मृतकों के शव कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने के लिए सीएचसी कटरा ले जाए गए हैं। घायल तीर्थयात्रियों को चिकित्सा इकाई भवन में प्राथमिक उपचार प्रदान किया गया और बाद में विशेष उपचार के लिए श्री माता वैष्णो देवी नारायण सुपर स्पेशयलिटी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया।

बोर्ड ने बताया कि चार तीर्थयात्रियों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। श्राइन बोर्ड के मुताबिक हादसे के तुरंत बाद बोर्ड अधिकारियों, जिला प्रशासन और पुलिस द्वारा बचाव एवं निकासी अभियान शुरू किया गया।

बोर्ड ने बताया कि मृतकों के परिजनों को सहायता राशि के रूप में 10-10 लाख रुपए तथा घायलों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए दिए जाने की मंजूरी प्रदान की गई है। इसके अलावा, घायलों के उपचार का पूरा खर्च बोर्ड वहन करेगा। जम्मू-कश्मीर सरकार ने इस हादसे की जांच के आदेश दे दिए हैं। प्रदेश के प्रधान सचिव (गृह) की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय टीम इसकी जांच करेगी।

बोर्ड ने इस हादसे के मृतकों तथा घायल तीर्थयात्रियों के नाम जारी कर दिए हैं। श्राइन बोर्ड के अध्यक्ष मनोज सिन्हा ने श्री माता वैष्णो देवी मंदिर में मची भगदड़ की घटना पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि श्री माता वैष्णो देवी मंदिर में मची भगदड़ में लोगों की मौत की खबर सुनकर अत्यंत दुखी हूं। मृतकों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है और घायलों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं।

हादसे के पीड़ितों का नाम

जम्मू-कश्मीर में अधिकारियों ने शनिवार को माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़ में मारे गए 12 तीर्थयात्रियों में से आठ के नाम जारी किए। इस हादसे में मारे आठ लोगों के नाम इस प्रकार हैंः धीरज कुमार (26) राजौरी (जम्मू-कश्मीर), श्वेता (35) गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश), विनी कुमार (24) बदरपुर (दिल्ली), सोनू पांडे (24) बदरपुर (दिल्ली), ममता (38) झज्जर (हरियाणा), धर्मवीर सिंह (35) सहारनपुर (उप्र), वनीत कुमार (38) सहारनपुर (उप्र ) और अरुण प्रताप सिंह (30) गोरखपुर (उप्र)।

राहत व बचाव कार्य जारी

पुलिस ने बताया कि भवन में तीर्थयात्रियों की भारी भीड़ थी और भगदड़ मच गई। इस हादसे में कम से कम 12 लोगों के मारे जाने की खबर है तथा 15 अन्य लोग घायल हुए हैं। राहत एवं बचाव कार्य जारी है। पुलिस ने कहा कि पुलिस, श्राइन बोर्ड, अर्द्धसैनिक बलों, स्वास्थ्य विभाग तथा प्रशासन की संयुक्त टीम राहत एवं बचाव कार्य में जुटी हुई है।

नव वर्ष के पहले दिन हुई इस दुखद घटना से पूरा देश शोकग्रस्त है। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, उप-राष्ट्रपति वैंकेया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जम्मू-कश्मीर के उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बसपा प्रमुख मायावती, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और कई अन्य राजनेताओं ने इस हादसे पर दुख जाहिर किया है।

प्रारंभिक जानकारी के अनुसार यहां मौजूद तीर्थयात्रियों के दो समूहों के बीच किसी वजह से बहस हो गई। बात धीरे-धीरे धक्का-मुक्की तक पहुंच गई, जिससे माहौल बिगड़ा और अफरा-तफरी मच गई। यह त्रासदी शुक्रवार की रात करीब 2:40 बजे हुई।

अब दर्शन-पूजन फिर से किया जा रहा है। इसे लेकर श्राइन बोर्ड ने कहा है कि श्रद्धालुओं की तीर्थयात्रा नियमित और सुचारूपूर्ण ढंग से जारी है। बोर्ड ने कहा है कि हादसे में जान गंवाने वाले मृतकों के शवों को सीएचसी कटरा भेज दिया गया है और घायलों को श्री माता वैष्णो देवी नारायण सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया। इनमें से चार को डिस्चार्ज कर दिया गया है।