फिक्सिंग घेरे में पूर्व रणजी खिलाड़ी, बोर्ड ने कहा भ्रष्टाचार पर ‘जीरो टोलरेंस’

Match-fixing: BCCI working closely with ICC anti-corruption unit, says it has ‘zero-tolerance approach’

नई दिल्ली। मुंबई के पूर्व रणजी क्रिकेटर रॉबिन मौरिस के कथिततौर पर फिक्सिंग में शामिल होने की खबर के बीच भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि वह भ्रष्टाचार को लेकर अपनी ‘जीरो टोलरेंस’ नीति पर बरकरार है।

मीडिया संगठन अल जजीरा के स्टिंग ऑपरेशन में लगाए गए भ्रष्टाचार के कथित आरोपों के बाद बीसीसीआई ने जारी अपने बयान में कहा है कि वह खेल की अखंडता को बनाए रखने के लिये प्रतिबद्ध है और भ्रष्टाचार को लेकर अपनी जीरो टोलरेंस नीति पर भी बरकरार है।

बीसीसीआई के कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी ने आधिकारिक बयान में कहा कि बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी शाखा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद(आईसीसी) की भ्रष्टाचार रोधी इकाई के साथ मिलकर उन आरोपों की समीक्षा कर रही है जिसका दावा एक समाचार चैनल ने किया है।

मुंबई के पूर्व रणजी क्रिकेटर मौरिस पर समाचार चैनल अल जजीरा के स्टिंग ऑपरेशन में फिक्सिंग के आरोप लगाए गए हैं। इस मामले के सामने आने के बाद आईसीसी ने अपनी जाच भी शुरू कर दी है। यह मामला पिच फिक्सिंग से जुड़ा है। मुंबई क्रिकेट संघ(एमसीए) ने फिलहाल जारी जांच का हवाला देते हुये कोई टिप्पणी नहीं की है।

अज जज़ीरा टीवी नेटवर्क ने अपने स्टिंग में दावा किया है कि रॉबिन मौरिस गाले में गत वर्ष भारत और श्रीलंका के बीच टेस्ट के दौरान ग्राउंड्समैन को रिश्वत देने में शामिल थे। गत वर्ष श्रीलंका और भारत के बीच गाले में खेले गए टेस्ट मैच को लेकर काफी सवाल उठे थे जबकि नवंबर में मैच फिक्सरों ने इंग्लैंड के इसी मैदान पर खेले गए मैच में संपर्क करने की कोशिश की थी। भारत ने गाले टेस्ट 304 रन से जीता था और श्रीलंकाई टीम इस मैच में 291 और 245 रन पर आउट हो गई थी।

इस बीच श्रीलंका क्रिकेट ने एक बयान जारी कर कहा कि वह आईसीसी को पूरा सहयोग करेंगे। श्रीलंका क्रिकेट के सीईओ एश्ले डी सिल्वा आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी इकाई और सीईओ डेविड रिचर्डसन के संपर्क में बने हुए हैं।

अचानक से सुर्खियों में आए पूर्व ऑलराउंडर मौरिस रमाकांत आचरेकर के कोचिंग में स्कूल क्रिकेट खेल चुके हैं। उन्होंने मुंबई की रणजी क्रिकेट में पदार्पण के बाद 42 प्रथम श्रेणी मैच खेले जिसमें 1358 रन बनाए और 76 विकेट लिए।

मौरिस ने वर्ष 2004 में ईरानी कप में मुंबई के लिये आखिरी प्रथम श्रेणी मैच खेला था और पहली पारी में छह विकेट का जबरदस्त प्रदर्शन किया था। हालांकि कंधे में गंभीर चोट के बाद वह फिर नहीं खेल पाए।

मौरिस ने फिर वर्ष 2007 में मुंबई की तरफ से अंतर राज्य ट्वंटी 20 टूर्नामेंट में आखिरी बार खेला जहां वह अजिंक्या रहाणे और रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ियों के साथ बल्लेबाजी करने उतरे। वह इसके बाद इंडियन क्रिकेट लीग से भी जुड़े लेकिन लीग के विवादों में आने के बाद उन्होंने खेल छोड़ दिया।

इसी दौरान मौरिस ने भारत पेट्रोलियम के लिए भी खेलना छोड़ दिया। रणजी करियर के बाद मौरिस क्रिकेट से काफी दूर हो गये और गत माह अप्रैल में ही उन्होंने एक हाई स्कूल में क्रिकेट कोचिंग करियर की शुरूआत की थी।