जीका वायरस की रोकथाम के सभी ऐहतियाती कदम उठाये

measures to prevent Zika virus
measures to prevent Zika virus

भोपाल । मध्यप्रदेश के कुछ शहरों में जीका वायरस का प्रभाव होने संबंधी सूचनाओं को ध्यान में रखते हुए जिलों में रोकथाम के पर्याप्त ऐहतियाती उपाय किये गये हैं। जिलों में चिकित्सकों के निर्देशन में सर्वेक्षण दलों का गठन किया गया है और प्रारंभिक लक्षणों वाले व्यक्तियों के खून और पेशाब की जाँच की जा रही है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अपने निवास पर स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक बुलाकर जीका वायरस को रोकने के लिये सभी उपाय करने के निर्देश दिये। उन्होंने विभागीय तैयारियों की विस्तृत समीक्षा की और उठाये गये कदमों पर संतोष व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने जीका वायरस के रोकथाम की कार्य-योजना के क्रियान्वयन की तैयारियों को और अधिक सुदृढ़ करने के निर्देश दिये हैं।

बैठक में बताया गया कि जीका वायरस से प्रदेश में अभी तक एक भी मृत्यु नहीं होना पाया गया है। जानकारी दी गयी कि जीका एक सामान्य वायरस है, इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है। सभी जिलों में सामान्य बुखार आने पर भी जाँच की व्यवस्था की गई है। गर्भवती महिलाओं की जाँच के विशेष इंतजाम किये गये हैं। मच्छरों से बचाने के लिये नगर निगम के सहयोग से फागिंग मशीन का उपयोग किया जा रहा है।

भोपाल, विदिशा और सीहोर शहरों में विशेष उपाय किये गये हैं। लोगों को मच्छरों से बचाव के उपाय करने के लिये प्रेरित भी किया जा रहा है। साथ ही जिला अस्पतालों में वायरस की जाँच के लिये लैब की सुविधा को और ज्यादा सुदृढ़ बनाया गया है ताकि संभावित प्रकरणों की जल्दी जाँच हो। स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी पुणे से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं।

अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य ने जीका वायरस रोग से बचाव संबंधित रोकथाम एवं नियंत्रण की तैयारियों एवं जीका से प्रभावित क्षेत्रों की जानकारी दी। अपर सचिव भारत शासन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग मनोज झालानी ने नियंत्रण कार्यों के प्रोटोकॉल से अवगत कराया। उन्होंने प्रदेश में कार्यरत केन्द्र सरकार एवं एनसीडीसी के अधिकारियों के विस्तृत तकनीकी कार्य के बारे में भी अवगत कराया।

बैठक में मुख्य सचिव बी.पी. सिंह, गौरी सिंह, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं आवास, आयुक्त स्वास्थ्य, आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं आवास, आयुक्त जनसंपर्क, आयुक्त नगर निगम, संचालक एनसीडीसी नई दिल्ली एवं अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।