अजमेर के मेयो कॉलेज में रैगिंग के खिलाफ राज्यपाल को ज्ञापन

अजमेर के मेयो कॉलेज में रैगिंग के खिलाफ राज्यपाल को ज्ञापन
अजमेर के मेयो कॉलेज में रैगिंग के खिलाफ राज्यपाल को ज्ञापन

अजमेर । राजस्थान में अजमेर के मेयो कॉलेज में पिछले दिनों सीनियर छात्रों द्वारा जूनियर छात्र के साथ रैगिंग एवं अप्राकृतिक कृत्य करने के मामले में आज शहर युवा कांग्रेस व एन.एस.यू.आई.ने अतिरिक्त जिला कलेक्टर अबुसूफियान चौहान को राज्यपाल के नाम का ज्ञापन सौंपा।

कांग्रेस ने ज्ञापन में कहा कि जब उच्चतम न्यायालय द्वारा रैगिंग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है तो फिर कॉलेज प्रबंधन इस ओर ध्यान क्यों नहीं दे रहे हैं। उन्होंने रैगिंग के नाम पर अप्राकृतिक कृत्य करने वाले दोषी छात्रों एवं मामले को दबाने के लिए कॉलेज प्रबंधन के दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। साथ ही राज्यपाल से अनुरोध किया गया है कि राजस्थान के सभी स्कूलों एवं कॉलेजों आदि के छात्रावासों में निगरानी की विशेष व्यवस्था कराई जाए ताकि ऐसी घटनाओं की पुर्नवृत्ति न हो।

इधर मामले के तूल पकड़े जाने के बाद पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह ने जांच अधिकारी बदल दिया है। अब मामले की जांच अजमेर दक्षिण पुलिस उपाधीक्षक गजेंद्र सिंह करेंगे। पहले ये जांच यातायात पुलिस उपाधीक्षक प्रीति चौधरी को सौंपी गई थी।

पुलिस महानिरीक्षक बीजू जॉर्ज जोसफ ने भी नाबालिग छात्र के साथ अनैतिक कृत्य को गंभीर माना है। इस बीच पुलिस सूत्रों का कहना है कि पीड़ित छात्र की मेडिकल एफ.एस.एल. रिपोर्ट आने के बाद ही सत्यता सामने आ सकेगी।