श्रीलंका के ‘लापता’ राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने दिया गैस वितरण का आदेश

कोलंबो। श्रीलंका में प्रदर्शनकारियों के राष्ट्रपति कार्यालय और उनके आधिकारिक आवास पर कब्जे किए जाने के बाद से ‘लापता’ राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने रविवार को अधिकारियों को ईंधन की कमी वाले देश में 3,700 मीट्रिक टन रसोई गैस का सुचारू वितरण सुनिश्चित करने का आदेश दिया।

प्रदर्शनकारियों के हमले के बाद राजपक्षे को किसी अज्ञात स्थान पर ले जाया गया है। राष्ट्रपति की ओर से दिए गए आदेश की जानकारी उनके कार्यालय की ओर से दी गई है।

खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रपति राजपक्षे ने रविवार को केरलापिटिया में गैस लेकर पहले जहाज के पहुंचने के बाद अधिकारियों को गैस की अनलोडिंग और वितरण करने का निर्देश दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक 3,740 मीट्रिक टन गैस लेकर दूसरा जहाज 11 जुलाई को और तीसरा 3,200 मीट्रिक टन गैस लेकर 15 जुलाई को आएगा।

राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के प्रतिष्ठित प्रशासनिक भवनों जिन्हें उनके आधिकारिक आवास के रूप में भी जाना जाता है,पर शनिवार को गुस्साए प्रदर्शनकारी घुस आए थे और वहां अब भी कब्जा जमाए हुए हैं। प्रदर्शनकारियों ने जोर देकर कहा है कि वे यहां तब तक जमें रहेंगे जब तक राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों इस्तीफा नहीं दे देते और एक नई सरकार नहीं बन जाती।

श्रीलंका में नई सरकार जल्द ही स्थापित होने की उम्मीद

देश के राष्ट्रपति के भाग जाने और प्रधानमंत्री द्वारा इस्तीफे की पेशकश तथा हिंसक विरोध प्रदर्शन के बीच अब श्रीलंका की सड़कों पर शांति है। बीबीसी ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे के बुधवार को औपचारिक रूप से इस्तीफा देने की उम्मीद है। इस प्रकार देश के सबसे शक्तिशाली राजनीतिक परिवार की देश पर पकड़ समाप्त हो जाएगी।

केवल दो महीने पहले प्रधानमंत्री का पद पर नियुक्त किए गए रानिल विक्रमसिंघे ने भी सर्वदलीय अंतरिम सरकार को सत्ता संभालने की अनुमति देने के लिए इस्तीफा देने की पेशकश की है।

राजपक्षे (73) ने लोगों से सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण की अनुमति देने का आग्रह किया है। ताकि उनकी देखरेख में नई सरकार का गठन हो सके। राजनीतिक दलों के नेता रविवार को एक बैठक करेंगे उनका दावा है कि अंतरिम सरकार बनाने के लिए उनके पास संसदीय बहुमत है।

राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री के औपचारिक रूप से इस्तीफा देने के बाद, संसद के अध्यक्ष महिंदा यापा अभयवर्धने के श्रीलंका के संविधान के अनुसार कार्यवाहक राष्ट्रपति के रूप में कार्यभार संभालने की उम्मीद है।

रविवार की सुबह कई प्रदर्शनकारी अभी भी राष्ट्रपति के आधिकारिक आवास में डेरा डाले हुए है। उन्होंने वहीं खाना बनाया, पियानो बजाया और घर में ताश व कैरम के खेल का भी आनंद लिया। इस बीच, पुलिस ने शनिवार को विरोध प्रदर्शन के सिलसिले में तीन हजार से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है।