सेना की तैयारी में कहीं कोई कमी नहीं : निर्मला सीतारमण

defence minister Nirmala Sitharaman
defence minister Nirmala Sitharaman

देहरादून। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने  कहा कि सेना की तैयारी में कहीं कोई कमी नहीं है, सीतारमण यहां मुख्यमंत्री आवास में भारतीय सैन्य अकादमी और राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में चयनित उत्तराखण्ड के 140 युवाओं को प्रशस्ति पत्र तथा 50-50 हजार रुपए की धनराशि प्रदान करने के लिए रविवार को आयोजित समारोह को सम्बोधित कर रही थी।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सिर्फ देवभूमि ही नहीं बल्कि वीरभूमि भी है। राज्य के 21 वीर सपूतों को परमवीर चक्र प्राप्त हो चुके हैं। यहां विक्टोरिया क्राॅस प्राप्त करने वाले वीर सैनिक भी है तथा तीन पीढ़ियों तक सेना में सेवाएं देने वाले परिवार भी हैं। थल सेनाध्यक्ष बीपिन सिंह रावत भी उत्तराखण्ड के है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि उत्तराखंड के हर परिवार से एक सदस्य सेना में है। भारत की रक्षा में उत्तराखंड का महत्वपूर्ण योगदान है। वह इस भूमि को सादर नमन करती हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी ने सेना के तीनों अंगों थल सेना, नौसेना और वायु सेना को आधुनिक बनाने के लिए कई नई पहल की हैं। सेना की तैयारी के सम्बन्ध में उन्होंने कहा कि सेना की तैयारी में जरा भी कहीं कोई कमी नही है।

सेना के लिए राज्य के युवाओं को प्रशिक्षण देने वाले नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) के निदेशक कर्नल अजय कोठियाल की प्रंशसा करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि कर्नल कोठियाल जैसे ‘सेल्फ मोटिवेटेड’ लोग सभी को प्रेरणा देते हैं।

सरकार सैनिक तथा उनके परिवारों को हर सहायता देने के लिए सदैव तत्पर है। उन्होंने उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में आधुनिक सुविधाओं से युक्त कमांड हाॅस्पिटल स्थापित करने की भी बात कही।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि सरकार हर कदम पर सैनिक तथा उनके परिवारों के साथ है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रक्षा मंत्री जैसे अहम मंत्रालय की जिम्मेदारी निर्मला सीतारमण को दी इससे यह संदेश गया कि देश अपनी बेटियों पर भरोसा करता है, बेटियाँ सब कुछ कर सकती हैं।

इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने कहा कि राज्य का सेना में 18 प्रतिशत योगदान है। देश की सुरक्षा में राज्य को महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि तीन लाख से कम आय वाले परिवार के 50 बच्चों को एनडीए तथा सीडीएस की निशुल्क कोचिंग सरकार द्वारा दी जाएगी। उत्तराखंड देश का पहला राज्य है जो शहीदों के परिजनों को नौकरी प्रदान करता है।

इस अवसर पर विक्टोरिया क्राॅस पदक प्राप्त स्वर्गीय गब्बर सिंह नेगी, स्व. दरबान सिंह नेगी, स्व. वीरचन्द्र सिंह गढ़वाली, पूर्व सेना प्रमुख स्व. वीसी जोशी तथा स्व बाबा जसवंत सिंह के परिजनों के साथ ही अपने पति की शहादत के पश्चात सेना में कमीशन प्राप्त करने वाली कै. प्रिया शर्मा सेमवाल, संगीता मल्ल, फलाईंग आॅफिसर अनुपमा जोशी और नेवल आॅफिसर वर्तिका जोशी की माता जी डाॅ. अल्पना जोशी को भी सम्मानित किया गया। इसके साथ ही ऐसे परिवारों को भी सम्मानित किया गया जिनकी तीन पीढ़ियों ने सेना में सेवाएं दीं।

कार्यक्रम को थल सेनाध्यक्ष अध्यक्ष सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह, विधायक गणेश जोशी और मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट् अन्य गणमान्य तथा सम्मानित होने वाले छात्रों के अभिभावक, एनसीसी केडेटस भी बड़ी संख्या में उपस्थित थे।