कांग्रेस नक्सलियों ही नहीं देश के टुकड़े-टुकड़े करने वालों के भी साथ : प्रधानमंत्री मोदी

Modi accused Congress of sympathy for Naxalites
Modi accused Congress of sympathy for Naxalites

कोरबा (छत्तीसगढ़)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस पर नक्सलियों से सहानुभूति रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस का पंजा नक्सलियों ही नहीं बल्कि देश के टुकड़े़-टुकड़े करने वालों के भी साथ है।

मोदी ने आज यहां राज्य के दंतेवाड़ा में पिछले सप्ताह नक्सल हमले में मारे गए भाजपा विधायक भीमा मंडावी एवं सुरक्षा बलों के चार जवानों को श्रध्दाजंलि अर्पित करने के साथ शुरू किए अपने सम्बोधन में कहा कि यह हमला उस क्षेत्र में हुआ जहां नक्सलियों का प्रभाव काफी कम कर दिया गया था। उन्होने कहा कि यह हमला क्यों हुआ, क्योंकि राज्य में कांग्रेस की सरकार आने से उनके हौसले फिर बुलन्द हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य में विधानसभा चुनावों के दौरान नक्सलियों को क्रान्तिकारी बताने का एक दौर कांग्रेस के भीतर चल पड़ा था। उन्होंने आरोप लगाया कि यहां जो हो रहा है वह कांग्रेस के नक्सलियों का हौसला बढ़ाने से हो रहा है।

एक तरफ सुरक्षा बलों के लाखों जवान रात दिन प्रभावित इलाकों में विकास गतिविधियों को आगे बढ़ाने एवं शान्ति बहाल करने में जुटे हैं तो दूसरी ओर छत्तीसगढ़ को एक बाऱ फिर हिंसा के भयानक दौर में ढ़केलने की कोशिश हो रही है।

कांग्रेस के घोषणा पत्र का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि नक्सलियों का यह हौसला कांग्रेस के ढ़कोसला पत्र से भी बढ़ रहा है। इससे बू आ रही है कि दिल्ली में सरकार बनने पर कांग्रेस राष्ट्रद्रोह कानून को खत्म कर देगी। इसका मतलब साफ है कि उन्हे हथियार उठाने के लिए उसकाने वालों को खुली छूट मिल जाएगी और वैसी कार्रवाई नही हो पाएगी जो अभी होती है।

मोदी ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ नक्सलियों के ही साथ नहीं है बल्कि वह देश के टुकड़े टुकड़े करने वालों के भी साथ है। उन्होंने जम्मू कश्मीर का उल्लेख करते हुए कहा कि वहां पर देश को बचाने में लगे सुरक्षा बलों को मिले सुरक्षा कवच को कांग्रेस वापस लेकर उऩ्हे कमजोर बनाना चाहती है। इससे हिंसा एवं आतंक पैदा करने वाली ताकते खुशी से अभी से नाच रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस जमीन से कट चुकी है। एक परिवार की गुलामी और उसी का हुक्म पार्टी में चल रहा है। छत्तीसगढ़ में जो हो रहा है वह दिल्ली में तय हो रहा है। आयुष्मान योजना को राज्य में बन्द कर दिया गया है तथा केन्द्र की गरीबों के लिए चलाई जा रही दूसरी योजनाओं को बन्द किया जा रहा है। किसान सम्मान योजना के लिए राज्य से किसानों की सूची नही दी गई है।

मोदी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का नाम लिए बगैर उनकी ओर इशारा करते हुए कहा कि जमानती लोग यहां बैठे है, उनको लगता है कि ऐसा कर वह लोगो का विश्वास पा लेंगे। उन्होंने कोल घोटाले का भी जिक्र किया और कहा कि खदानों की बंदरबांट कर किस तरह लाखो करोड़ो का घोटाला किया गया था। उन्होंने भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र में किसानों, छोटे दुकानदारों के लिए की गई घोषणाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि मोदी जो वादा करता हैं उसे वह पूरा करता है।

उन्होने घोषणा पत्र में जनजातियों एवं वनवासियों के लिए किए वादे का भी उल्लेख किया और कहा कि सबका साथ सबका विकास की धारणा से उनकी सरकार आगे काम करेंगी। लगभग 20 मिनट के अपने सम्बोधन में मोदी ने कहा कि इसके लिए आपका एक एक वोट जरूरी है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में ऐसी सरकार की जरूरत हैं जोकि राष्ट्रहित में ऐसे फैसले ले जिससे देश मजबूत हो। मोदी ने इसके बाद राज्य के भाटापारा में भी एक चुनावी सभा को सम्बोधित किया।