अजमेर पर मानसून मेहरबान, घनघोर घटाएं जमकर बरसीं

अजमेर। मानसून अब अजमेर शहर पर भी मेहरबान होने लगा है। बरसाती सीजन में अब तक छिट पुट बारिश के भीग रहा शहर बुधवार को तरबतर हो गया। दोपहर करीब 2 बजे छाई घनघोर घटाएं जमकर बरसीं।

यूं तो सुबह से बादलों की आवाजाही बनी हुई थी, आखिरकार दोपहर बाद लुका छिपी का खेल खत्म हुआ और बादल बरसने लगे। करीब आधा घंटे तक हुई बरसात से हर तरफ पानी ही पानी हो गया। बारिश के बाद तापमान में गिरावट होने से तपिश कम हो गई। हालांकि उमस बढने से लोग बेहाल रहे।

बारिश के कारण अजमेर कलेट्रेट परिसर में पसरा सन्नाटा
बारिश के कारण अजमेर कलेट्रेट परिसर में पसरा सन्नाटा

 

बारिश से शहर के निचले इलाकों में पानी भरने की सूचना है साथ ही जगह जगह नाले और नालियों में जमा कचरे ने ड्रेनेज सिस्टम की पोल खोल दी। हमेशा की तरह कचहरी रोड लबालब हो गया। कई अन्य जगह सडकों पर पानी नदियों की भांति बहा। जिससे जगह जगह कीचड जमा हो गया।

अजमेर जिले में बारिश की स्थिति

जल संसाधन विभाग के अनुसार एक जून से अब तक अजमेर में 94, श्रीनगर में 49.5, गेगल में 50, पुष्कर में 179, गोविन्दगढ़ में 101, नसीराबाद में 143, पीसांगन में 229, मांगलियावास में 125, किशनगढ़ में 69, बांदरसिदरी में 50, रूपनगढ़ में 154, अराई में 194.5, ब्यावर में 233 एमएम वर्षा रिकॉर्ड की गई है।

इसी प्रकार जवाजा में 201, टॉटगढ़ में 145, सरवाड़ में 155, केकड़ी में 194, सावर में 65, भिनाय में 198, मसूदा में 89, बिजयनगर में 172, नारायणसागर में 165 एमएम वर्षा दर्ज की गई। जिले में अब तक 138.56 एमएम औसत वर्षा रिकार्ड की गई है।