बिहार राज्य के विद्युत क्षेत्र में सुधार के लिए बिहार सरकार ने एनटीपीसी लिमिटेड के साथ किया समझौता

Hindi Samachar VIDEO आखिर कौन सा रोग हुआ था वाजपेयी को ? || आपको भी हो सकता है ?

बिहार राज्य में विद्युत क्षेत्र में प्रदर्शन में सुधार हेतू पटना में 15 मई 2018 को बिहार सरकार, बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी लिमिटेड ;ठैच्भ्ब्स्द्ध, बिहार स्टेट पावर जनरेशन कंपनी लिमिटेड ;ठैच्ळब्स्द्ध, नोर्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड ;छठच्क्ब्स्द्ध, साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड ;ैठच्क्ब्स्द्ध, बिहार स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड ;ठैच्ज्ब्स्द्ध तथा एनटीपीसी लिमिटेड के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) हुआ।

नितीश कुमार, मुख्यमंत्री, बिहार, आर. के. सिंह, विद्युत और नवीन एवं नवीकरणीय मंत्री (स्वतन्त्र प्रभार), भारत सरकार, बिजेन्द्र प्रसाद यादव, ऊर्जा मंत्री, बिहार सरकार, प्रत्याय अमृत, प्रधान सचिव, ऊर्जा विभाग, बिहार सरकार, गुरदीप सिंह, सीएमडी, एनटीपीसी लिमिटेड, आनंद कुमार गुप्ता, निदेशक (वाणिज्यिक) एनटीपीसी, आर. लक्ष्मणन, प्रबन्ध निदेशक, ठैच्ळब्स् तथा कई अन्य गणमान्य अतिथियों की मौजूदगी में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। एमओयू के तहत बरौनी थर्मल पावर स्टेशन ;720 डॅद्ध तथा बिहार स्टेट पावर जनरेशन कंपनी ;ठैच्ळब्स्द्ध की इक्विटी के कांटी बिजली उत्पादन निगम लिमिटेड ;ज्ञठन्छद्ध एवं नबीनगर पावर जनरेटिंग कंपनी (प्रा.) लिमिटेड ;छच्ळब्द्ध के एनटीपीसी में स्थानान्तरण की परिकल्पना की गई है।

एनटीपीसी भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय के तहत एक महारत्न कंपनी है, कोयला, गैस, हाइड्रो, सौर एवं पवन विद्युत परियोजनाओं से इसकी कुल इन्सटॉल्ड क्षमता 53ए651 डॅ (संयुक्त उद्यम सहित) है। एनटीपीसी इन दीर्घकालिक लक्ष्यों को पूरा करने के लिए लगातर प्रयासरत है तथा वर्तमान में इसकी 21ए071 डॅ क्षमता निर्माणाधीन है। कंपनी की दो चालू कोयला खानें हैं। एनटीपीसी ने हाल ही में उन राज्यों में अपनी अद्भुत क्षमता का प्रदर्शन किया है, जिनके विद्युत स्टेशन अपनी पूर्ण क्षमता के साथ काम नहीं कर रहे थे। बरौनी थर्मल पावर स्टेशन ;720 डॅद्ध जो बिहार के बेगूसरााय ज़िले में स्थित है। प्लांट की दो प्रावस्थाएं हैं- पहला चरण ;2ग110 डॅद्ध (आर एण्ड एम की अग्रिम स्थिति तक पहुंच गई है) और दूसरा चरण ;2ग250 डॅद्ध (निर्माणाधीन) है। एनटीपीसी विद्युत परियोजनाओं में अपनी विशेषज्ञता तथा अनुबंधन प्रबन्धन क्षमता के साथ संतुलित कार्य करेगी और निर्धारित समय में युनिट्स का कॉमर्शियल संचालन शुरू कर दिया जाएगा।

नबीनगर पावर जनरेटिंग कंपनी (प्रा.) लिमिटेड एनटीपीसी लिमिटेड और बिहार स्टेट पावर जनरेशन कंपनी लिमिटेड ;ठैच्ळब्स्द्ध का 50ः50 संयुक्त उद्यम है। कंपनी बिहार के औरंगाबाद ज़िले में 1980 डॅ ;3ग660 डॅद्ध नबीनगर सुपर थर्मल पावर परियोजना का विकास कर रही है। परियोजना अभी निर्माणाधीन है। कांटी बिजली उत्पादन निगम लिमिटेड ;ज्ञठन्छस्द्ध बिहार स्टेट पावर जनरेशन कंपनी लिमिटेड ;ठैच्ळब्स्द्धके साथ संयुक्त उद्यम में एनटीपीसी लिमिटेड की सहायक कंपनी है। वर्तमान में एनटीपीसी और ठैच्ळब्स् की ज्ञठन्छस् में क्रमशः 72.64 फीसदी और 27.36 फीसदी इक्विटी है। यह बिहार राज्य के मुज़फ्फरपुर ज़िले के कांटी में मुजफ्फरनगर थर्मल पावर स्टेशन ;डज्च्ैद्ध ;2ग110 डॅ़ 2ग195 डॅद्ध का स्वामित्व और संचालन करती है। बिहार सरकार की अधिसूचना केे अनुसार तीनो विद्युत उत्पादन सुविधाएं वैधानिक स्थानान्तरण योजना के तहत निर्धारित दिनांक से एनटीपीसी को हस्तांतरित कर दी जाएंगी। इन विद्युत स्टेशनों के एनटीपीसी को स्थानान्तरण होने के बाद इनके संचालन में दक्षता से बिहार के विद्युत शुल्क में भी कमी आएगी। तीनों स्टेशनों से बिजली भारत सरकार, विद्युत मंत्रालय से अनुमोदन के बाद बिहार राज्य में दी जाएगी।

VIDEO अटल बिहारी वाजपेयी की मौत की अफवाह।