मुगलों के वंशज ने कहा-राम मंदिर के लिए दूंगा सोने की ईंट

mughal descendant prince habeebuddin tucy offers gold brick for ram temple
mughal descendant prince habeebuddin tucy offers gold brick for ram temple

नई दिल्‍ली। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर अभी सुप्रीम कोर्ट ने कोई फैसला नहीं दिया है। लेकिन दिन इस विवादित मुद्दे पर बयानबाजी होती रहती है। अब हाल ही में खुद को मुगल वंशज बताने वाले हबीबुद्दीन तुसी ने कहा है कि मुगलों का उत्तराधिकारी होने के नाते अयोध्या की विवादित जगह पर मेरा मालिकाना हक है। वहीं उन्होंने यह भी कहा है कि सुप्रीम कोर्ट वह जमीन मुझे देता है, तो मैं पूरी की पूरी जमीन राम मंदिर बनाने के लिए दान कर दूंगा।

उन्होंने आगे यह भी कहा कि यदि विवादित जगह पर राम मंदिर बनता है, तो नींव के लिए वह सोने की ईंट दान देगें। आपको जानकारी में बता दें, हाल ही में तुसी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर अयोध्या रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद केस का पक्षकार बनने की भी मांग की थी, हालांकि उनकी याचिका स्वीकार नहीं हुई।

खुद को बताते है मुगल का वंशज

हबीबुद्दीन खुद को अंतिम मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर के वंश के बताते हैं। उन्होंने कहा कि पहले मुगल शासक बाबर ने अयोध्या में 1529 में बाबरी मस्जिद बनवाई थी। मुगल वंशज होने के नाते उस जगह पर मेरा हक होना चाहिए।

पहले राम मंदिर था वहां : हबीबुद्दीन

उन्होंने आगे कहा कि अयोध्या में जहां बाबरी मस्जिद बनी हुई थी, वहां पहले राम मंदिर था। मैं उन लोगों की भावनाओं का आदर करता हूं। मुगल वंशज होने के नाते सुप्रीम कोर्ट यदि मुझे जमीन सौंपता है, तो मैं इसे राम मंदिर के लिए दान दे दूंगा।