मुगलसराय जंक्शन अब पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन

Mughalsarai station renamed as  Deen dayal Upadhyay junction
Mughalsarai station renamed as Deen dayal Upadhyay junction

चंदौली। देश के अतिव्यस्त दिल्ली हावडा रेलमार्ग का महत्वपूर्ण पड़ाव मुगलसराय जंक्शन ने करीब डेढ सौ साल बाद रविवार को संघ विचारक पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम के अपने नए सफर की शुरूआत कर ली।

रेलवे स्टेशन से सटे बाकले मैदान में आयोजित कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में भगवा रंग में रंगे रेलवे स्टेशन के नामान्तरण समारोह के केन्द्रीय रेल मंत्री पियूष गोयल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा गवाह बने।

इस मौके पर लखनऊ तक के लिए एक नई ट्रेन एकात्मता एक्सप्रेस का शुभारंभ हुआ। महिला चालित मालगाड़ी को हरी झंडी दिखाने के साथ ही करीब 200 करोड़ रुपए की कई योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास हुआ। इसी के साथ ही पड़ाव पर बनने वाले दीन दयाल संग्रहालय से लेकर चौराहे का सुंदरीकरण एवं दीनदयाल की मूर्ति की बुनियाद रखी गई।

वर्ष 1968 में 11 फरवरी को पं. दीनदयाल का शव रेलवे जंक्शन के निकट पोल संख्या 1276 के पास पड़ा मिला था। संघ परिवार में उसके बाद ही शहर एवं जंक्शन का नाम उनको समर्पित करने की सुगबुगाहट शुरू हो गई थी। पण्डित दीनदयाल उपाध्याय चिन्तक और संगठनकर्ता थे। वे भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष भी रहे। उन्होंने भारत की सनातन विचारधारा को युगानुकूल रूप में प्रस्तुत करते हुए देश को एकात्म मानववाद जैसी प्रगतिशील विचारधारा दी।