अजमेर दरगाह की गलियां मार्बल से सुंदर बनेगी

अजमेर। अजमेर में विश्व प्रसिद्ध ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह एवं आसपास के क्षेत्रों की गलियाें को मार्बल लगा कर सुन्दर बनाया जाएगा। शनिवार को केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलातों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की मौजूदगी में इस आशय का एक समझौता हुआ है।

केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलात मंत्रालय और हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड के बीच हस्ताक्षर किए गए। इसके तहत हिन्दुस्तान जिंक स्थानीय दरगाह कमेटी की अनुशंसा और आवश्यकतानुसार 61 करोड़ 22 लाख रुपए के विकास कार्य कराएगा। दरगाह कमेटी के सदर आमीन पठान भी मौजूद रहे।

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा कि केंद्र सरकार विकास कार्यों के लिए प्रतिबद्ध है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश में विकास के नए आयाम स्थापित हुए है। अजमेर दरगाह के विकास में भी किसी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।

उन्होंने हिंदुस्तान जिंक द्वारा दरगाह में विकास कार्य कराए जाने पर खुशी जाहिर की और कहा कि मुझे उम्मीद है कि इन विकास कार्यों से दरगाह व उसके आसपास के क्षेत्र का नया स्वरुप निखर के सामने आएगा।

दरगाह के यह विकास कार्य आइकॉन सिटी योजना के तहत कराए जाएंगे।दरगाह कमेटी के सदर अमीन पठान ने बताया कि हिंदुस्तान जिंक के सहयोग से दरगाह विकास के तहत मुख्य जोर सफाई व्यवस्था पर रहेगा। स्वच्छ भारत मिशन अभियान के तहत दरगाह व आसपास के क्षेत्रों में सफाई के लिए आधुनिक मशीनें खरीदी जाएगी।

साथ ही दरगाह परिसर में हाईड्रोलिक छत्रियां स्थापित होंगी और दरगाह परिसर के अलावा दरगाह के समीपस्थ क्षेत्रों के साथ साथ धानमंडी तक मार्बल फर्श का काम कराया जाएगा। पठान ने कहा कि दरगाह के विकास के लिए सतत प्रयास जारी रहेंगे और इसके लिए धन की कमी नहीं आने दी जाएगी।

उल्लेखनीय है कि हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड ने हाल ही में दरगाह कमेटी को 21 लाख रुपए की खाद बनाने की मशीन भी सुलभ कराई है जो कि मजार शरीफ पर प्रतिदिन कई क्विंटल चढ़ने वाले फूलों से खाद बनाने का काम करती है।

इससे पूर्व केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह पर पहुंचकर हाजिरी दी और मजार शरीफ पर मखमली चादर व अकीदत के फूल पेश कर देश में खुशहाली की कामना की।