कोरोना के दबाव में एक फीसदी से ज्यादा लुढ़का मुंबई शेयर बाजार

Sensex drops 416 points in domestic stock market pressure on selling
Mumbai stock market fell more than one percent under the pressure of Corona

मुंबई। चीन से फैले नोवेल कोरोना वायरस के डर से विदेशी शेयर बाजारों में बने भारी दबाव से घरेलू शेयर बाजार भी सोमवार को एक फीसदी से ज्यादा टूट गये।

बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले दो कारोबारी दिवस की तेजी खोता हुआ आज 458.07 अंक यानी 1.10 प्रतिशत लुढ़ककर 41,155.12 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 219.25 अंक यानी 1.06 फीसदी टूटकर 12,119 अंक पर आ गया। यह दोनों सूचकांकों का 22 जनवरी के बाद का निचला स्तर है।

मझौली कंपनियों पर कम दबाव रहा जबकि छोटी कंपनियों में निवेशक लिवाल रहे। बीएसई का मिडकैप 0.40 प्रतिशत लुढ़ककर 15,759.01 अंक पर बंद हुआ। वहीं, स्मॉलकैप 0.03 प्रतिशत चढ़कर 14,850.39 अंक पर पहुँच गया।

चीन के साथ ही कुछ अन्य एशियाई देशों तथा यूरोप में भी कोरोना वायरस के मामले सामने आने से विदेशी शेयर बाजारों पर दबाव रहा। जापान का निक्की 2.03 प्रतिशत टूट गया। यूरोप में जर्मनी का डैक्स शुरुआती कारोबार में 2.07 फीसदी की गिरावट में रहा। चीन, हांगकांग और दक्षिण कोरिया में स्थानीय नववर्ष के मौके पर बाजार बंद रहे।

घरेलू शेयर बाजार में स्वास्थ्य समूह को छोड़कर अन्य में गिरावट रही। स्वास्थ्य समूह का सूचकांक करीब डेढ़ फीसदी चढ़ा। धातु समूह में सवा तीन प्रतिशत, दूरसंचार में पौने दो प्रतिशत और बिजली समूह में करीब डेढ़ फीसदी की गिरावट रही।

सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा स्टील के शेयर सवा चार फीसदी, इंडसइंड बैंक के सवा तीन प्रतिशत और एचडीएफसी तथा भारतीय स्टेट बैंक के लगभग ढाई प्रतिशत टूट गये। महिंद्रा एंड महिंद्रा में करीब दो फीसदी और अल्ट्राटेक सीमेंट में एक फीसदी की तेजी रही।

सेंसेक्स 102.51 अंक टूटकर 41,510.68 अंक पर खुला और दिन भर लाल निशान में रहा। इसका दिवस का उच्चतम स्तर 41,516.28 अंक रहा। बिकवाली के दबाव में बाजार की गिरावट बढ़ती गयी। कारोबार की समाप्ति से पहले यह 41,122.48 अंक तक उतर गया। अंत में गत दिवस की तुलना में 458.07 अंक नीचे 41,155.12 अंक पर बंद हुआ।
बीएसई में कुल 2,715 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,494 के शेयरों में गिरावट में और 1,058 के बढ़त में रहे जबकि 163 कंपनियों के शेयरों में अंतत: कोई बदलाव नहीं हुआ।

निफ्टी 51.15 अंक टूटकर 12,197.10 अंक पर खुला। इसका दिवस का उच्चतम स्तर 12,216.60 अंक और न्यूनतम स्तर 12,107 अंक रहा। अंत में यह पिछले कारोबारी दिवस के मुकाबले 129.25 अंक लुढ़ककर 12,119 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 11 कंपनियों के शेयर हरे निशान में और शेष 39 के लाल निशान में रहे।

बीएसई में स्वास्थ्य समूह की 1.43 प्रतिशत की तेजी को छोड़कर अन्य समूह गिरावट में रहे। धातु समूह का सूचकांक सर्वाधिक 3.25 प्रतिशत लुढ़क गया। दूरसंचार में 1.75 फीसदी, बिजली में 1.48, वित्त में 1.34, बैंकिंग में 1.18, बुनियादी वस्तुओं में 1.06 और एफएमसीजी में एक प्रतिशत की गिरावट रही। यूटिलिटीज समूह का सूचकांक 0.92 प्रतिशत, पूँजीगत वस्तुओं का 0.91 और ऊर्जा का 0.88 प्रतिशत फिसल गया।

सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा स्टील के शेयर सबसे ज्यादा 4.31 प्रतिशत टूटे। इंडसइंड बैंक में 3.37 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक में 2.51, भारतीय स्टेट बैंक में 2.42, एचडीएफसी में 2.25, पावरग्रिड में 2.06, भारती एयरटेल में 1.86, एनटीपीसी में 1.57, कोटक महिंद्रा बैंक में 1.53, आईटीसी में 1.45 और टाइटन में 1.04 प्रतिशत की गिरावट रही।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर 0.99 प्रतिशत, ओएनजीसी के 0.97, एलएंडटी के 0.83, टीसीएस के 0.73, बजाज फाइनेंस के 0.65, इंफोसिस के 0.64, हीरो मोटोकॉर्प के 0.58, हिंदुस्तान यूनिलिवर के 0.56, एचसीएल टेक्नोलॉजीज के 0.55 और नेस्ले इंडिया के 0.51 प्रतिशत की बढ़त में रहे।

महिंद्रा एंड महिंद्रा में सर्वाधिक 1.85 प्रतिशत की तेजी रही। अल्ट्राटेक सीमेंट के शेयर 0.75 प्रतिशत, टेक महिंद्रा के 0.50, आईसीआईसीआई बैंक के 0.45, एक्सिस बैंक के 0.37, बजाज ऑटो के 0.26, मारुति सुजुकी के 0.24, सनफार्मा के 0.15 और एशियन पेंट्स के 0.05 प्रतिशत की बढ़त में बंद हुये।