राजगढ मसाणिया भैरवधाम पर अखंड ज्योत का समापन, भक्तों ने मांगी मन्नत

अजमेर। श्री मसाणिया भैरव धाम राजगढ पर चल रहे शारदीय नवरात्र महोत्सव के समापन अवसर पर भक्तों का सैलाब उमड पडा। प्रदेश एवं बाहर से श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला नवमी की रात्रि से ही शुरू हो गया था।

बाबा भैरव व मां कालिका के जयघोष के साथ मुख्य उपासक गुरुदेव चंपालाल महाराज द्वारा मनाकामनापूर्ण स्तंभ की पूजा अर्चना कर बाबा भैरव व मां कालिका की आरती की गई। महाराज ने शारदीय नवरात्र मेला महोत्सव के दौरान एकम से दसम तक चली अखंड ज्योत का विधिवत समापन किया।

घाम पर यह अखंड ज्योत निरन्तर 24 घंटे प्रज्वलित रही। इस अखंड ज्योत की विशेषता यह है कि जिस पात्र में इसको प्रज्वलित किया जाता है उसमें हजारों नारियल की चिटक, कई पीपे तेल के व धूप हवन सामग्री डालनें पर भी यह पात्र कभी नहीं भरता। इस ज्योत के दर्शनमात्र से ही श्रद्धालुओं के रोग, कष्ट व बाधाएं दूर हो जाते हैं। धाम पर आए श्रद्धालुओं ने मनोकामनापूर्ण स्तंभ की विशेष परिक्रमा कर बाबा भैरव से अपनी मन्नत मांगी।

इस अवसर पर चंपालाल महाराज ने सभी श्रद्धालुओं को प्लास्टिक मुक्त प्रदेश बनाने का आवहान करते हुए कहा कि प्लास्टिक इस धरती मां व जीव जंतुओं के विनाश का मुख्य कारण है। उन्होंने कहा कि सबको मिलकर मृत्युभोज पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने के लिए आज से ही प्रतिज्ञाबद्ध होना है। आज से सभी मिलकर शपथ लेते हैं कि मृत्युभोज ना करेंगे और ना ही किसी को करने देंगे। इस बाबत सभी लोगों को अधिक से अधिक जागरूक करेंगे। आर्थिक मंदी में फिजूलखर्ची रोकने के लिए अधिक से अधिक सामूहिक विवाह कराने साथ नशामुक्ति का भी हाथ खडे कर संकल्प करवाया। इस मौके पर विशेष रामबाण औषधि रूपी चम्तकारी चिमटी का वितरण किया गया।

समारोह में अजमेर विधायक वासुदेव देवनानी, महापौर धर्मेन्द्र गहलोत, रेवेन्यू बोर्ड की रजिस्ट्रार विनीता श्रीवास्तव, आबकारी के अतिरिक्त आयुक्त राजेन्द्र सिंह राटौड, नसीराबाद के तहसीलदार बुद्धिप्रकाश मीणा, चीफ मेडीक ज्यूरिस्ट आशुतोष श्रीवास्तव, पूर्व सभा पति सुरेन्द्र सिंह शेखावत, महेश चौहान, अमित पंवार, भीम सिंह समेत बडी संख्या में गणमान्यजन मौजूद रहे।