नवाज शरीफ की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

लाहौर। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की तबीयत खराब होने के कारण उन्हें साेमवार देर रात अस्पताल में भर्ती कराया गया। राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि शरीफ की चिकित्सा जांच की रिपोर्ट आने के बाद उनकी बिगड़ती तबीयत को देखते हुए उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके नवाज शरीफ का प्लेटलेट काउंट बहुत ही कम हो गया था जिसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती कराने की सलाह दी थी।

शरीफ के निजी डॉक्टर अदनान खान ने सोमवार शाम काे उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंता जतायी थी तथा पाकिस्तान सरकार से उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराने का अनुरोध किया था। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का प्लेटलेट काउंट काफी कम हो गया है और उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत है। मैंने संबंधित संबंधित अधिकारियों से तत्काल कदम उठाने की गुजारिश की है।

डॉ. खान ने कहा कि वह शरीफ से लाहौर में एनएबी के ठोकर नियाज बेग कार्यालय में मिले। वह काफी बीमार दिख रहे थे। उन्हें (नवाज शरीफ को) कई तरह की गंभीर और जानलेवा स्वास्थ्य समस्याएं हैं। डॉ. खान ने कहा कि शरीफ को तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया जाना चाहिए।

शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के कार्यकर्ता कल शाम बड़ी संख्या में एनएबी कार्यालय के समक्ष एकत्रित हुए और अपने नेता को अस्पताल में भर्ती कराने की मांग की। कार्यकर्ताओं ने टायर भी जलाए और शरीफ के समर्थन में नारे लगाए। इसके बाद शरीफ को सर्विस हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया और डॉक्टरों की एक टीम उनका इलाज कर रही है।

विपक्षी पीएमएल-एन के अध्यक्ष एवं नवाज शरीफ के भाई शाहबाज शरीफ ने आरोप लगाया है कि उनके बड़े भाई की खराब हो रही सेहत के बावजूद उन्हें पहले अस्पताल में भर्ती नहीं कराया गया। उन्होंने कहा कि अगर शरीफ को कुछ होता है तो इसके लिए प्रधानमंत्री इमरान खान जिम्मेदार होंगे।

पार्टी की प्रवक्ता मरियम औरंगजेब ने बताया कि नई मेडिकल रिपोर्ट से पता चलता है कि शरीफ की हालत ‘बेहद गंभीर’ है और उनहें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत है।

गौरतलब है कि अल अजीजिया भ्रष्टाचार मामले में लाहौर की कोट लखपत जेल में सात वर्ष की कैद की सजा काट रहे शरीफ को चौधरी चीनी मिल मामले में गिरफ्तारी के बाद एनएबी के लाहौर स्थित कार्यालय में रखा गया है। ब्यूरो ने उन्हें 25 अक्टूबर तक रिमांड में लिया हुआ है।