परमाणु चेतावनी के बावजूद भारत-पाकिस्तान वार्ता की जरूरत

Negotiating the need for Indo-Pak dialogue despite nuclear warnings

Negotiating the need for Indo-Pak dialogue despite nuclear warnings

इस्लामाबाद| भारत के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की यह चेतावनी कि उनकी सेना पाकिस्तान के ‘परमाणु धमकी’ के खिलाफ सीमा पार जाकर भी कार्रवाई करने के लिए तैयार है, इस सत्य को नहीं मिटा सकता कि दोनों देशों को आपस में बातचीत करने की जरूरत है। यह बात पाकिस्तान के एक अखबार ने सोमवार को कही। अखबार डॉन ने ‘भारत का आक्रामक बयान’ शीर्षक अपने संपादकीय में पाकिस्तान और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच बैंकॉक में हुई हाल की बैठक को याद करते हुए कहा कि यह बैठक दर्शाती है कि दोनों देश यह बात अच्छी तरह जानते हैं कि उनमें बातचीत पूरी तरह बंद हो जाने की चाहत नहीं है।

अखबार ने कहा कि जनरल बिपिन रावत के युद्धकारी और लापरवाह किस्म के बयान से सप्ष्ट है कि ‘कोल्ड स्टार्ट’ सिद्धांत पाकिस्तान के खिलाफ भारत की रणनीति का प्रमुख हिस्सा बन गई है।

आखबार ने आगे कहा, अंतर्राष्ट्रीय सीमा पार करना युद्ध जैसा है और तब पाकिस्तान के पास इसका जवाब देने के अलावा कोई चारा नहीं होगा। पाकिस्तान अपनी धरती है, पर भारत की कार्रवाई को स्वीकार नहीं कर सकता।

देश से जुडी और अधिक खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

विश्व से जुडी और अधिक खबरों के लिए यहां क्लिक करें

आपको यह खबर अच्छी लगे तो SHARE जरुर कीजिये और  FACEBOOK पर PAGE LIKE  कीजिए, और खबरों के लिए पढते रहे Sabguru News और ख़ास VIDEO के लिए HOT NEWS UPDATE और वीडियो के लिए विजिट करे हमारा चैनल और सब्सक्राइब भी करे सबगुरु न्यूज़ वीडियो