शिक्षा विभाग में 77 हजार 100 पदों पर होगी नियुक्तियां : देवनानी

जयपुर। राजस्थान के शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने बुधवार को कहा कि शिक्षा विभाग में आगामी दिसम्बर से पहले 77 हजार 100 पदों पर नवीन नियुक्तियां कर दी जाएगी।

देवनानी ने शासन सचिवालय में बजट घोषणाओं के लिए की जा रही कार्यवाही की समीक्षा करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 54 हजार तृतीय श्रेणी अध्यापकों, 4500 शारीरिक शिक्षकों, 700 पुस्तकालयाध्यक्ष, 1200 प्रयोगशाला सहायक, 5 हजार व्यख्याताओं, 9 हजार द्वितीय श्रेणी अध्यापकों की भर्ती के लिए गत पांच मार्च को तथा 1200 प्रधानाध्यापक के रिक्त पदों पर भर्ती के लिए भी सात मार्च को स्वीकृति जारी की जा चुकी है। इसके अलावा 26 हजार लेवल प्रथम पर अध्यापक की नियुक्ति अागामी जून में पूर्ण हो जाएगी।

उन्होंने विद्यालय क्रमोन्नति, आदर्श विद्यालयों में अतिरिक्त कक्षा कक्षों और शौचालय निर्माण के लिए त्वरित कार्यवाही करने के लिए भी अधिकारियों को निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हमारी बेटियां योजना का विस्तार करते हुए दसवीं बोर्ड परीक्षा में प्रत्येक जिले में मेरिट आने वाली अनाथ बालिका को स्नातक स्तर पर सहायता के सम्बंध में भी त्वरित आदेश जारी किये जाए।

उन्होंने कहा कि राज्य के 5051 माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों में कंप्यूटर लेब की स्थापना की जा रही है। ताकि बच्चों को कंप्यूटर शिक्षा में किसी तरह की बाधा नहीं हो। उन्होंने बताया कि 2018-19 में शिक्षा कर्मियों एवं पैरा टीचर्स तथा मीड डे मील योजना के तहत कार्यरत कूक कम हैल्पर के मानदेय में आगामी एक जुलाई से 10 प्रतिशत की वृद्धि के संबंध में भी राज्य सरकार द्वारा आदेश जारी किए जा रहे हैं।

उन्होंने बताया कि शिक्षा संकुल में एक करोड़ 44 लाख 24 हजार की लागत से ई लर्निंग स्टूडियों का निर्माण भी प्रगति पर है और आगामी अप्रैल तक कार्य पूर्ण हो जाएगा।

देवनानी ने राज्य के 150 शारदे बालिका छात्रावासों में डिजिटल क्लास रूम स्थापना को भी मई तक पूर्ण करने के अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने राज्य के हरेक विद्यालय में जन सहयोग से खिलौना बैंक की स्थापना करने, पानी और स्थान की उपलब्धता के आधार पर विधालयों में हरित क्षेत्र विकसित करने, विद्यालयों में प्रतिभा विद्यादान योजना लागू करने के कार्य भी किए जाने के निर्देश दिए।

बैठक में बताया गया कि अध्यापक प्रशिक्षण शिविरों का नामकरण पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर किए जाने के आदेश जारी किए जा चुके हैं।