अभ्यास मैच में न्यूजीलैंड के हाथों भारत की शर्मनाक हार

लंदन। विश्व की नंबर दो टीम और विश्व कप में खिताब की प्रबल दावेदार मानी जा रही भारतीय टीम को अपने शीर्ष बल्लेबाजों के खौफनाक प्रदर्शन से न्यूजीलैंड के खिलाफ अभ्यास मैच में शनिवार को छह विकेट से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा।

भारतीय टीम अपने चार विकेट 39 रन पर और आठ विकेट 115 रन पर गंवा चुकी थी। हालांकि आलराउंडर रवींद्र जडेजा ने 50 गेंदों में 54 रन की बेशकीमती पारी खेलकर भारत को 179 रन के सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया लेकिन यह स्कोर ऐसा नहीं था कि गेंदबाजों को कोई राहत मिल पाती। न्यूजीलैंड ने 37.1 ओवर में ही चार विकेट पर 180 रन बनाकर आसानी से जीत अपने नाम कर ली।

विश्व की दूसरे नंबर की टीम भारत से किसी को ऐसी खौफनाक शुरुआत की उम्मीद नहीं थी। लेकिन रोहित शर्मा 2, शिखर धवन 2, लोकेश राहुल 6, कप्तान विराट कोहली 18, हार्दिक पांड्या 30, महेंद्र सिंह धोनी 17 और दिनेश कार्तिक 4 रन बनाकर पवेलियन लौट गए।

ऐसे में लग रहा था कि भारत 100 भी नहीं पहुंच पायेगा लेकिन जडेजा ने 50 गेंदों में छह चौकों और दो छक्कों की मदद से 54 रन बनाकर भारत को लड़ने लायक स्कोर तक पहुंचाया। जडेजा ने अपनी पारी से विश्व कप के लिए टीम की एकादश में जगह बनाने की अपनी दावेदारी मजबूत कर ली।

भारत के शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों ने ख़ासा निराश किया और कोई भी बल्लेबाज बाएं हाथ के तेज गेंदबाज बोल्ट और मध्यम तेज गेंदबाज नीशम की गेंदों का सामना नहीं कर पाया। रोहित ने छह, शिखर ने सात, राहुल ने 10, विराट ने 24, पांड्या ने 37, धोनी ने 42, जार्तिक ने तीन, और भुवनेश्वर ने 17 गेंदें खेलीं। विराट ने तीन चौके, पांड्या ने छह चौके और धोनी ने एक चौका लगाया।

जडेजा नौंवें बल्लेबाज के रूप में आउट हुए और उनके आउट होने के बाद भारतीय पारी 39।2 ओवर में 179 रन पर सिमट गयी। जडेजा ने कुलदीप यादव के साथ नौंवें विकेट के लिए 62 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी की। कुलदीप ने 36 गेंदों में दो चौकों की मदद से 19 रन बनाये। भारत की पारी में 24 अतिरिक्त रनों का भी योगदान रहा।

न्यूजीलैंड की तरफ से ट्रेंट बोल्ट ने भारत के शीर्ष क्रम को झकझोरते हुए 33 रन पर चार विकेट झटके जबकि जेम्स नीशम को 26 रन पर तीन विकेट मिले। बोल्ट ने रोहित, शिखर, राहुल और कुलदीप को पवेलियन की राह दिखाई।

न्यूजीलैंड के लिए भारत का स्कोर कोई मुश्किल नहीं था और भारतीय गेंदबाजों के पास बचाव करने के लिए भी कुछ नहीं था। कप्तान केन विलियम्सन और दिग्गज बल्लेबाज रॉस टेलर ने शानदार अर्धशतक ठोकते हुए अपनी टीम को आसान जीत की मंजिल पर पहुंचा दिया।

विलियम्सन और टेलर ने तीसरे विकेट के लिए 114 रन की मैच विजयी साझेदारी की। विलियम्सन ने 87 गेंदों पर 67 रन में छह चौके और एक छक्का लगाया जबकि टेलर ने 75 गेंदों पर 71 रन में आठ चौके लगाए। दोनों ने अपनी टीम को दो विकेट पर 37 रन से उबारकर टीम को जीत की राह पर डाल दिया।

जसप्रीत बुमराह ने कॉलिन मुनरो को दूसरे ही ओवर में पगबाधा पर भारत को पहली सफलता दिलाई। मुनरो चार रन ही बना सके। मार्टिन गुप्तिल 28 गेंदों में तीन चौकों के सहारे 22 रन बनाने के बाद 10 वें ओवर में हार्दिक पांड्या की गेंद पर लोकेश राहुल को कैच थमा बैठे।

लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने 30 वें ओवर में विलियम्सन को रोहित शर्मा के हाथों कैच कराया जबकि लेफ्ट आर्म स्पिनर जडेजा ने टेलर को कप्तान विराट के हाथों लपकवाया लेकिन तब तक बाजी भारत के हाथों से निकल चुकी थी। हेनरी निकोलस ने नाबाद 15 रन बनाये और न्यूजीलैंड ने आसानी से मुकाबला जीत लिया और भारत को गहरा झटका दे दिया।